वाराणसी, इंटरनेट डेस्‍क। पूर्वांचल में मौसम का रुख बदला हुआ है, तीन दिनों से वातावरण में बूंदाबांदी और बारिश का दौर चुनौती दे रहा है। मौसम विज्ञानी मान रहे हैं कि अब मानसून की विदायी का दौर चल रहा है। बादलों की चला- चली की बेला में बारिश का दौर नमी मिलने के बाद सामान्‍य रूप से अनुकूल ही है। मानसून अपने विदायी की ओर है तो पूर्वांचल में सप्‍ताह भर से सुबह होने वाली ठंड अब गुलाबी ठंड का अहसास कराने लगी है। मौसम का रुख बदला हुआ है तो दूसरी ओर बूंदाबांदी की वजह से तापमान भी अब गोता लगाने के मूड में है। हालांकि, वातावरण में नमी का स्‍तर पूर्व की अपेक्षा अब धीरे धीरे कम होने की वजह से बारिश कम होते जाने की उम्‍मीद है। इसके बाद आसमान साफ हुआ तो थोड़ा उमस होना तय है।

शुक्रवार की सुबह आसमान में बादलों की आवाजाही का क्रम बना रहा। सुबह भी बादलों की सक्रियता की वजह से कई इलाकों में बूंदाबांदी का क्रम जारी रहा। सुबह मामूली ठंड का अहसास गुलाबी ठंडक सरीखा अहसास कराता रहा। वातावरण में ठंडक घुली रही तो हवाओं का रुख भी राहत देता रहा। मौसम विज्ञानी मान रहे हैं कि पखवारे भर में पूरी तरह गुलाबी ठंडक का अहसास होने लगेगा। इसकी वजह से तापमान में उतार चढ़ाव का दौर भी बना रहेगा। दिन में धूप और रात में ओस का दौर भी माह भर में आ जाएगा और इसी के साथ बारिश का दौर पूरी तरह समाप्‍त हो जाएगा।  

बीते चौबीस घंटों में अधिकतम तापमान 30.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्‍य से तीन डिग्री कम रहा। न्‍यूनतम तापमान 25.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्‍य रहा। आर्द्रता अधिकतम 84 फीसद और न्‍यूनतम 78 फीसद दर्ज की गई। मौसम विभाग की ओर से जारी सैटेलाइट तस्‍वीरों के अनुसार पूर्वांचल के आसमान में बादलों की सक्रियता बनी हुई है। जबकि वातावरण में बूंदाबांदी का दौर तापमान में भी कमी कर चुका है। मौसम विभाग ने अगले चार दिनों तक बादलों की सक्रियता बनी रहने की उम्‍मीद जाहिर की है। 

Edited By: Abhishek Sharma