जौनपुर, जेएनएन। बरसठी थाना क्षेत्र के परियत बाजार स्थित अति प्राचीन हनुमान मंदिर पर महंथ को लेकर अनुसूचित जाति के लोग और बाजार के लोग रविवार की सुबह आमने- सामने हो गए। वहीं तनाव की सूचना पर पुलिस बल मौके पर पहुंच गई आैर दोनों पक्षों को समझाने की कोशिश की। रविवार को अनुसूचित जाति के लोग मंदिर तक जाने वाले प्रमुख रास्ते को खोदने लगे। इससे बाजार वासियों के साथ आस-पास के लोग भारी संख्या में मंदिर पर इकट्ठा हो गये। दोनों पक्षों की स्थिति देख भारी संख्या में बरसठी पुलिस भी मौके पर पहुंचकर समझाने का प्रयास किया। बाद में भीड अधिक देख थाने पर आने पर सुलह समझौते की बात कही।

दरसल परियत बाजार में अति प्रचीन हनुमान मंदिर बना हुआ है। मंदिर पर गडबडदास तीन दशक तक मंदिर पर बतौर महंथ थे। उनकी तबीयत खराब होने पर वे बीस दिन पूर्व अपने घर चले गये। मंदिर पर परियत बाजार के गुप्ता बिरादरी के लोग पूजा अर्चना करते रहे। बताया जाता है कि इसके पूर्व मंदिर गुप्ता लोगों के पूर्वजों ने ही निर्माण करवाया था। महंथ न होने से अनुसूचित जाति के कुछ लोगों ने बनीडीह गांव थाना रामपुर के मखोधर को बतौर महंथ ले आकर बैठा दिए कि पूर्व महंथ का स्वास्थ्य ठीक नही है लिहाजा अब यही पूजा पाठ मंदिर में करेंगे।
महंथ अनुसूचित बिरादरी का देख परियत बाजार के गुप्ता बिरादरी के साथ आसपास के लोग आक्रोशित हो गये और मंदिर पर इकट्ठा होने लगे। लोगों के भारी हुजूम के बीच अपने पक्ष को कमजोर होता देख कर अनुसूचित बस्ती के लोग मंदिर पर जाने का रास्ता खोदने लगे। सूचना पर काफी संख्या में पहुंची बरसठी पुलिस ने समझाने का प्रयास किया और दोनों पक्षों को थाने पर आने की बात कही। स्‍थानीय लोगों के अनुसार मंदिर पर कब्‍जे को लेकर ही यह विवाद शुरू किया गया है। हालांकि‍ि पुलिस मामले पर नजर बनाए हुए है। 

Posted By: Abhishek Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस