वाराणसी, जागरण संवाददाता। बीते डेढ़ सालों में अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए सरकार ने विविध प्रयास किये हैं। आर्थिक सहायता से लेकर व्यापारिक संगठनों से समय समय सुझाव मांगे और उस अमल करने की कोशिश भी की। इसी का नतीजा है कि उत्तर प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर के मद्धिम पड़ने के बाद बाजार को नियंत्रित लेकिन तेजगति पकड़ाने की कोशिश हुई।

इस क्रम में व्यापारी कल्याण बोर्ड के हर्ष पाल कपूर बताते हैं कि सरकार भी इस कोशिश में है कि व्यपारियों को किसी प्रकार की कोई दिक्कत न हो। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से वाराणसी आगमन पर भेंट की। इस दौरान वयापारी हितों की चर्चा हुई। वयापारी कल्याण बोर्ड को और गतिशील करने का निर्देश एवं मागदर्शन मिला। मुख्यमंत्री ने उन सभी बिंदुओं को जानने की कोशिश की जिससे व्यापार को गति दी जा सके। वहीं आगामी त्‍योहार के दौर में कारोबार को गति देने और कोरोना संक्रमण के बीच गाइड लाइन पर अनुपालन करने के लिए भी मंथन किया गया।  

दरअसल कोरोना काल में साड़ी उद्योग से लेकर सभी सेक्टरों में भारी गिरावट आई। व्यापरियों के सामने वित्तीय संकट उतपन्न हो गया। पूंजी का प्रवाह एक प्रकार से रुक गया। बेरोजगारों की संख्या में इजाफा होने लगा। ऐसी स्थिति में व्यापारी कल्याण बोर्ड ने उन सुझावों पर अमल करना शुरू करेगा जो मुख्यमंत्री से भेंट करने के दौरान हर्षपाल कपूर ने उठाये। हालांकि कोरोना की दूसरी लहर के समाप्त होने और सरकार द्वारा नियमों में ढिलाई देने से अर्थव्यवस्था में लगातार सुधार हो रहा है। धीरे ही सही लेकिन रफ्तार पकड़ती अर्थव्यस्था में बहुत जल्द सुधार होने की संभावना जताई जा रही है। वैसे व्यापार और उद्योग जगत सरकार से कई मुद्दों पर रियायत पाने की उम्मीद कर रहा है। सरकार अगर ऐसा कुछ खास कदम उठाती है तो निश्चित ही बाजार में तेजी आएगी और समस्याएं दूर होंगी।

Edited By: Abhishek Sharma