वाराणसी, जेएनएन। बनारस शहर की कई खबरों ने मंगलवार को सुर्खियां बटोरीं। जिनमेंकाशी में देव दीपावली, महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के 41 वें दीक्षांत समारोह, भगवान बुद्ध के अस्थि अवशेष की निकाली गई शोभायात्रा, गुरुनानक देव महाराज का 550वां प्रकाश उत्सव, सीजन में पहली बार न्‍यूनतम पारा 15 डिग्री से कम आदि खबरें सर्वाधिक चर्चा में रहीं। जानिए शाम चार बजे तक की शहर-ए-बनारस की पांच प्रमुख और चर्चित खबरें।

Dev Deepawali 2019 LIVE : काशी में देव दीपावली पर घाटों की ओर आस्‍था का रेला

उत्‍सवधर्मी काशी के अनूठे जल उत्सव के रूप में विश्‍व विख्यात देव दीपावली के मौके पर उत्तरवाहिनी गंगा के घाटों पर एक खास नजारा देखने के लिए देश-दुनिया से लोगों का हुजूम दोपहर बाद ही घाटों की ओर बढ़ चला। लाखों लोगों के कदम घाटों की ओर ऐसे बढ़ चले मानो मां गंगा की अनुपम छवि को लंबे समय के लिए लोग नजरों में कैद कर लेने को व्‍याकुल हों। दशाश्‍वमेध घाट की ओर दोपहर बाद तीन बजे से ही आस्‍था का उफान ऐसा उमड़ा कि दिन ढलने तक हर-हर महादेव और हर-हर गंगे का उदघोष कर भीड़ का बहाव गंगा तट की ओर बढ़ चला।

सर्टिफिकेट नहीं संस्कार की जरूरत, देश को नॉलेज पावर के रुप में स्थापित करना नई शिक्षा नीति का उद्देश्य

राज्यपाल व कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने कहा कि देश को नॉलेज सुपर बनाना ही नई शिक्षा नीति का उद्देश्य है। ऐसे में सिर्फ सर्टिफिकेट बांटना ही विश्वविद्यालयों का लक्ष्य नहीं होना चाहिए। ऐसे में विद्यार्थियों को संस्कार देने की भी जरूरत है। इसके लिए प्राथमिक शिक्षा की बुनियाद को मजबूत करना होगा। साथ ही विश्वविद्यालयों को प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालयों से समन्वय स्थापित करना होगा।वह मंगलवार को महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के 41 वें दीक्षांत समारोह की अध्यक्षता कर रहीं थी।

भगवान बुद्ध के अस्थि अवशेष की निकाली गई शोभायात्रा, कई देशों के बौद्ध भिक्षु व अनुयायी शामिल

सारनाथ महाबोधि सोसायटी ऑफ इंडिया के तत्वावधान में मूलगंध कुटी बौद्ध मंदिर के 88वें वार्षिकोत्सव के मौके पर मंगलवार को बुद्धम शरणम गच्छामि की धुन, गुलाब,गेंदा की पखडूडीयों के बौछार के बीच तथागत के पवित्र अस्थि अवशेष शोभायात्रा निकाली गई।

धूमधाम से मनाया गया गुरुनानक देव महाराज का 550वां प्रकाश उत्सव, सजी गुरुग्रंथ साहिब की झांकी

सिक्ख धर्म के संस्थापक व पहले गुरु गुरुनानक देव जी महाराज का 550वां प्रकाशोत्सव 'गुरुपर्व' मंगलवार को गुरुद्वारा गुरुबाग में श्रद्धापूर्वक मनाया गया। सिख समाज के लोगों ने एक दूसरे को बधाईयां देते हुए मिष्ठान वितरित किए। इस उपलक्ष्य में गुरुद्वारा गुरुबाग को झालरों व फूलों से बेहद आकर्षक ढंग से सजाया गया था। पानी के फव्वारे, रंग-बिरंगे फूलों व झिलमिल रोशनी में गुरुद्वारे की छटा अलौकिक नजर आई, जिसे निहारने लोग उमड़ पड़े। अलसुबह साढ़े तीन बजे बड़ी श्रद्धा व उत्साह संग गुरुग्रंथ साहिब जी का भव्य सुहाना स्वागत फूलों से सजी पालकी में कीर्तन भजन से किया गया। नाम सिमरन, कीर्तन आसा दी वार के बाद अखंड पाठ साहिब दोपहर तक चला।

सीजन में पहली बार न्‍यूनतम पारा 15 डिग्री से कम, जानिए कैसा रहेगा आने वाले सप्‍ताह का मौसम

दिन प्रतिदिन मौसम के बदल रहे रंग के बीच आखिरकार बीते चौबीस घंटों में पूर्वांचल से बुलबुल चक्रवात का असर खत्‍म होने के बाद पारे ने जोरदार ढंग से गोता लगाया और सीजन में पहली बार न्‍यूनतम पारा 15 डिग्री से भी कम हो गया। मौसम विभाग ने पहले भी संभावना जताई थी कि नवंबर के पहले पखवारे में ही न्‍यूनतम पारा 15 डिग्री से कम हो सकता है। वहीं एक ही दिन में ही तीन डिग्री पारा गिरने से अचानक ठंड का असर पूरे मैदानी क्षेत्रों में असर करने लगी है।

 

Posted By: Saurabh Chakravarty

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप