वाराणसी, जेएनएन। बनारस शहर की कई खबरों ने रविवार को चर्चा बटोरी जिनमें गंगा के अविरल-निर्मल स्‍वरुप के लिए किया आह्वावान, वाराणसी में 95 के पार पहुंचा पेट्रोल, महात्‍मा गांधी काशी विद्यापीठ में कम आवेदन, रोटरी यूथ लीडरशिप अवार्ड 'रायला' का शुभारंभ, मानसूनी बादलों ने पानी और पारा गिराया आदि प्रमुख खबरें रहीं। जानिए शाम तीन बजे तक की शहर-ए-बनारस की पांच प्रमुख और चर्चित खबरें।

गंगा दशहरा पर गंगा के अविरल-निर्मल स्‍वरुप के लिए किया आह्वावान, कहा- 'निर्मल गंगा के लिए जनभागीदारी अहम'

50 करोड़ से अधिक लोगों की आजीविका गंगा के अवतरण दिवस गंगा दशहरा पर नमामि गंगे ने दशाश्वमेध घाट पर अविरल गंगा- निर्मल गंगा की कामना से दुग्धाभिषेक किया। सनातनी संस्कृति का प्रवाह मां गंगा की आरती उतारी गई। शपथ लेकर जन भागीदारी सुनिश्चित करने का आवाह्न किया गया। गंगा जयघोष के बीच राष्ट्र ध्वज लहरा कर राष्ट्रीय नदी गंगा के प्रति कृतज्ञता व्यक्त की गई। नमामि गंगे टीम के महिला और पुरुष सदस्यों ने गंगा तलहटी की सफाई कर लोगों से गंदगी न करने की अपील की। स्वच्छता स्लोगन लिखी तख्तियों के द्वारा घाटों पर लोगों को जागरूक किया गया। गंगा घाटों पर उपस्थित नागरिकों को कोरोना की तीसरी लहर के खतरों से सचेत किया गया। मास्क पहनने और सामाजिक दूरी बनाए रखने का आग्रह किया गया। घाटों पर मास्क का वितरण भी किया गया। मां गंगा से कोरोना के जड- मूल से विनाश की गुहार लगाई। आईसीसी विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में भारत के विजयी होने का आशीर्वाद मांगा गया।

पेट्रोल - डीजल के भाव : वाराणसी में 95 के पार पहुंचा पेट्रोल, डीजल 90 रुपये के करीब

एक ओर जहां सोना-चांदी गोते लगा रहे हैं वहीं पेट्रोलियम पदार्थों के भाव आसमान की ओर बढ़ते जा रहे हैं। पेट्रोल अपनी पिच पर बैटिंग करते हुए शतक के करीब पहुंचा गया है तो डीजल भी अपने शतक से महज 10 रन ही दूर हैं। यानी शनिवार की रात के बाद पेट्रोल भाव 95 रुपये प्रति लीटर को पार करते हुए 95.15 रुपये प्रति लीटर तक पहुंच गया। वहीं डीजल का भाव भी 90 रुपये से मात्र 95 पैसे दूर अब 89.05 रुपये प्रति लीटर तक पहुंच गया है। अगर ऐसे ही रेट के बढ़ाव में गति जारी रही तो जल्द ही पेट्रोल का भाव 100 रुपये तक पहुंच सकता है जैसा के राजस्थान, दिल्ली जैसे राज्यों में तीन-चार माह पहले ही हो गया था। वैसे कोरोना की दूसरी पहल से पहले पिछले कई माह से पेट्रोल का भाव 89 रुपये कुछ पैसे प्रति लीटर पर ही अटका रहा। कोरोना के मामले कम होते ही 23 मई को काशी में पेट्रोल का भाव 91 रुपये प्रति लीटर को भी पार कर लिया है। यही नहीं डीजल भी शनिवार की रात से ही 85 रुपये प्रति लीटर से ऊपर उठ गया है। इसके बाद इसके बढ़ाव जारी रहा। भले ही किसी दिन भाव स्थिर रहा हो लेकिन घटा नहीं।

महात्‍मा गांधी काशी विद्यापीठ के 29 पाठ्यक्रमों में सीट के सापेक्ष दोगुने कम आवेदन, मेरिट से होगा दाखिला

महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के स्नातक, स्नातकोत्तर, व्यावसायिक, एमफिल व डिप्लोमा के विभिन्न पाठ्यक्रमों में दाखिले लिए अब तक करीब 30 हजार अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। वहीं 29 पाठ्यक्रमों में सीट के सापेक्ष दोगुने कम आवेदन आए हैं। वहीं बीए-बीकाम, बीएससी मैथ, एमकाम, विधि, एमएसडब्ल्यू सहित कई अन्य पाठ्यक्रमों में सर्वाधिक आवेदन आए हैं। हालांकि, 200 रुपये विलंब शुल्क के साथ 27 जून तक आवेदन करने का मौका है। विलंब शुल्क के साथ आवेदन करने के लिए वेबसाइट 21 जून से खोली जाएगी। ऐसे में आवेदकों की संख्या और बढ़ने की संभावना है। गत वर्ष स्नातक व स्नातकोत्तर के 62 पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए 31500 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। उधर शोध प्रवेश परीक्षा फार्म भरने की अंतिम तिथि 30 जून निर्धारित है। काशी विद्यापीठ में प्रवेश परीक्षाओं का फार्म तीन अप्रैल से ही ऑनलाइन है। कोरोना महामारी को देखते हुए विद्यालय प्रशासन आवेदन करने की अंतिम तिथि तीन बार बढ़ा चुका है। अब अंतिम तिथि नहीं बढ़ाई जाएगी।

रोटरी क्लब वाराणसी सेंट्रल का दो दिवसीय रोटरी यूथ लीडरशिप अवार्ड 'रायला' का शुभारंभ

सफलता विरासत में नही मिलती, हर सफल व्यक्ति के पीछे उसकी कड़ी मेहनत और सेल्फ ऑनेस्टी छिपी है। अपनी क्षमता के मूल्यांकन और क्लियर विजन से युवा देश की दिशा बदलने का दमखम रखता है। यह बाते जाने माने मोटीवेटर और इंटरनेशनल ट्रेनर प्रीतम कुमार गोस्वामी ने कही। वह शनिवार को रोटरी यूथ लीडरशिप अवार्ड 'रायला' के उदघाटन सत्र में प्रतिभागी युवाओं को सफलता के मूलमंत्र के असल मायने की जानकारी दे रहे थे। 'आज एवम कल की चुनौतियां' विषय पर आधारित व्यक्तिगत क्षमता में वृद्धि और समाजिक उत्तरदायित्व के निर्वहन चर्चा करते हुए प्रीतम कुमार गोस्वामी ने कहा कि विश्व की जनसंख्या सात सौ करोड़ है। लेकिन इनमें सफल लोगों की तादात सिर्फ हजारो में हैं। उन्होंने युवाओं से उनका सपना पूछा, अब तक की उपलब्धि जानने की कोशिश की। और अगले 25 वर्षों का लक्ष्य पूछा। बताया कि हर इंसान में क्लियारिटी होनी चाहिए। अल्बर्ट आइंस्टीन और महात्मा गांधी के अंदर ये गुण थे।

Varanasi City Weather Update : मानसूनी बादलों ने पानी और पारा गिराया, बनी रहेगी बादलों की सक्रियता

सक्रिय मानसून की वजह से अब गांव और शहर ही नहीं बल्कि नदी और नाले भी जून माह में उफान पर आने लगे हैं। मौसम का यही रुख अगले दस दिनों तक और बना रहा तो कई प्रमुख नदियों में उफान आना तय है। हालांकि, मौसम विभाग ने तीन दिनों के बाद मौसम का रुख साफ होने की उम्‍मीद जाहिर की है। माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में मौसम का रुख और भी बेहतर होगा और सक्रिय मानसून से कुछ राहत भी मिलेगी।बारिश का दौर आगे भी जारी रहने पर बाढ़ की संभावना इस बार जल्‍द होने की उम्‍मीद लग रही है। रविवार की सुबह आसमान बादलों की कैद में रहा, रात से सुबह तक ठंडी हवाओं का जोर रहा तो कई घरों में पंखे और कूलर का शोर शांत रहा। सुबह ठंडक के बीच रात से जारी बूंदाबांदी का असर भी बना रहा। दिन चढ़ा तो भी बादलों ने घटने का नाम नहीं लिया। मौसम विज्ञानी मान रहे हैं कि अगले 72 घंटों तक मानसूनी सक्रियता का दौर बना रहेगा। इसके बाद आसमान साफ होने के बाद बादलों की विदायी होगी और कुछ दिनों तक उमस का जोर रहेगा। हालांकि, इस दौरान लोकल हीटिंग या वातावरण में नमी होने पर बारिश और बादलों की सक्रियता का दौर दोबारा शुरू हो जाएगा।

 

Edited By: Abhishek Sharma