वाराणसी, इंटरनेट डेस्‍क। बनारस शहर की कई खबरों ने शुक्रवार को चर्चा बटोरीं जिनमें तीन सप्ताह स्वच्‍छता अभियान, महिला का खुदकुशी का प्रयास, वाराणसी में सवाल सत्याग्रह, काशी में 36 लाख को टीका, 17 दिसंबर को महापौर सम्मेलन आदि प्रमुख खबरें रहीं। जानिए शाम छह बजे तक की शहर-ए-बनारस की पांच प्रमुख और चर्चित खबरें।

श्रीकाशी विश्वनाथधाम लोकार्पण पर गांव में बनी टोलियां, तीन सप्ताह चलेगा स्वच्‍छता अभियान

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम लोकार्पण के अवसर पर गांव गांव में दीपावली मनाने की अपील प्रशासन की ओर से की जा रही है। बाबा दरबार के नए सिरे से निर्माण के बाद 13 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी कारिडोर का लोकार्पण करने जा रहा हैं। इस मौके पर काशी में कई आयोजनों का दौर भी शुरू हो रहा है। इसी कड़ी में जिले भर में स्‍वच्‍छता अभियान भी शुरू किया गया है। श्रीकाशी विश्वनाथधाम के लोकार्पण अवसर पर गांवों में विशेष स्वछता अभियान संचालित करने के निर्देश दिए गए हैं। जिलाधिकारी के आदेश के क्रम में जिला पंचायत राज कार्यालय की ओर से 694 ग्राम पंचायतों को पत्र भेजे गए हैं। सभी को निर्देश दिए गए हैं कि तत्काल स्वछता टीम को सक्रिय कर टोली बना ली जाए। टोलियां रोस्टर मुताबिक कार्य को अंजाम दें। एक एक गांव में यह अभियान चलाया जाए । आज से तीन सप्ताह तक इसकी मॉनिटरिंग होगी।

वाराणसी में रेल इंजन के सामने पुत्र संग महिला ने किया खुदकुशी का प्रयास

खुदकुशी की नीयत से महिला अपने पुत्र संग शुक्रवार की सुबह सारनाथ के आशापुर रेलवे क्रासिंग पहुंची और इंजन को आता देख सामने आ गई। इस दौरान अपने पुत्र को लेकर इंजन की चपेट में आने से महिला गंभीर रूप से घायल हो गई। वहीं पुत्र सुरक्षित बच गया। क्षेत्रीय लोगों ने उपचार के लिए उसे निजी अस्पताल में भर्ती कराया। बताया जाता है कि चौबेपुर चिरईगांव की 45 वर्षीय वंदना राजभर का अपने पति वीरेंद्र के बीच सरसों के खेत में पानी भरने के बात को लेकर गुरुवार की रात झगड़ा हुआ। जिससे नाराज वंदना सुबह अपने सात वर्षीय पुत्र हर्षित को लेकर ऑटो से आशापुर बाजार उतर कर रेलवे क्रासिंग के पास फ्लाई ओवर ब्रिज की सीढ़ी पर बैठ कर ट्रेन का इंतजार कर रही थी। तभी 8.50 बजे वाराणसी सिटी की तरफ से केवल इंजन आता देख वन्दना अपने पुत्र का हाथ पकड़ कर खुदकुशी के लिए इंजन के सामने कूदने जाने लगी तभी हर्षित ने क्रॉसिंग पर लगे खम्भे को तेजी से पकड़ लिया, इधर इंजन भी नजदीक आता देख कर खुद इंजन के सामने जाने लगी।

वाराणसी में सवाल सत्याग्रह के जरिये घर-घर जाएंगे कांग्रेस प्रत्याशी, विधानसभा चुनाव का खीचेंगे खाका

जनता जब हुंकार भरती है, अच्छे - अच्छों का ताज हिलने लगता है", लोकतंत्र में जनता ही मालिक है । इतिहास गवाह है कि जब - जब भी राज्यसत्ता स्वेच्छाचारी या निरंकुश हुई है। तब-तब जनता ऐसी हुकूमत को तिनके की भांति उखाड़ भेंकती है। वर्तमान समय मे भाजपा साशित केंद्र और राज्य सरकारों के साशन में जिस कदर मंहगाई ने आम लोगों के जीवन को दुश्वार किया है, उससे हर कोई त्रस्त है।जनता के रोजमर्रा के जीवन से जुड़े इस बेहद संवेदनशील मुद्दे को लेकर छावनी परिषद के पूर्व उपाध्यक्ष एवं वरिष्ठ कांग्रेस नेता शैलेन्द्र कुमार सिंह सवाल सत्याग्रह के माध्यम से जनता के बीच जाने और जनता से वर्तमान सरकार की नाकामियों और विफलताओं के ख़िलाफ़ चुप्पी तोड़ने की अपील करेंगे। इस सवाल सत्याग्रह यात्रा के क्रम में वह यातायात के पुराने संसाधन साइकल के माध्यम से प्रतिदिन शहर के हर गली, हर मुहल्ले व बाज़ार में जाकर सप्ताहव्यापी चुप्पी तोड़ो अभियान चलाएंगे और जनता को कालाधन, नोटबन्दी, डीज़ल-पेट्रोल, गैस, बिजली की बढ़ती कीमतों, खाद्य तेलों में हो रहे लगातार बढोत्तरी, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार,सरकार की तानाशाही, माताओं - बहनों के ख़िलाफ़ सरकार के संरक्षण में हो रहे अपराध, पुलिस प्रसाशन की नाकामियों के ख़िलाफ़ जागरूक करते हुए उनसे इसके ख़िलाफ़ खड़े होने की अपील करेंगे।

कोरोना टीका लगवाने में वाराणसी टाप-10 में, बलिया सबसे फिसड्डी, काशी में 36 लाख लोगों को पहली डोज

कोरोना से बचाव के लिए वाराणसी में जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा के निर्देशन में कोविड-19 टीकाकरण का महा अभियान तेज हो गया है। टीकाकरण के मामले में वाराणसी जिला प्रदेश की टाप-10 की सूची में है। वहीं सबसे खराब स्थिति बलिया की है। इसे लाल यानी फिसड्डी की सूची में शामिल किया गया है। इस लिहाज से वैक्‍सीनेशन को लेकर पूर्वांचल की स्थिति चिंताजनक है। वाराणसी में गुरुवार की शाम तक कुल 36 लाख से अधिक कोरोना की वैक्सीन लग चुकी थी। वही पहली डोज की बात की जाए तो यहां के 24 लाख से अधिक लोगों ने अपने जागरूकता का परिचय देते टीका लगवा लिया है। यह आंकड़ा 81.38 फीसद है। वहीं 41.21 फीसद के साथ 12.25 लाख लोगों ने दूसरी डोज भी लगवा ली है। वहीं 10 दिसंबर तक पहली डोज 28 लाख तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है। वहीं बलिया में अभी तक कुल आबादी के महज 26.37 फीसद लोगों ने ही पहली डोज लगवाई है। प्रदेश की बात की जाए तो 76.5 फीसद ने पहली डोज लगवाकर देश व समाज हित में यह नेक कार्य करने का परिचय दिया है।

वाराणसी में अब 17 दिसंबर को होगा महापौर सम्मेलन, छावनी क्षेत्र के होटलों में ठहरने की व्यवस्था

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम लोकार्पण समारोह व धाम यात्रा के तहत देश भर से आए महापौर का सम्मेलन भी आयोजित हो रहा है। हालांकि, इसके आयोजन की तिथि बदल गई है। यह सम्मेलन जहां पहले 14 दिसंबर को होना था जो अब 17 दिसंबर को होगा। यह निर्णय मुख्यमंत्रियों के सम्मेलन को दृष्टिगत लिया गया है। भाजपा संगठन की ओर से जारी सूचना के अनुसार मुख्यमंत्री सम्मेलन 13 या 14 को हो सकता है। इसके लिए श्रीकाशी विश्वनाथ धाम स्थल का चयन हो रहा है। वहीं, महापौर सम्मेलन बरेका में होगा। करीब दो सौ महापौर सम्मेलन में शामिल होंगे। इसका एजेंडा ऐतिहासिक धरोहरों को लेकर अपने शहर में कराए गए कार्य हैं जिस पर महापौर अपनी बातें रखेंगे। महापौर सम्मेलन आयोजन की जिम्मेदारी नगर निगम प्रशासन को दी गई है। निगम ने उनके ठहरने की व्यवस्था छावनी के चार होटलों में की है।

Edited By: Abhishek Sharma