वाराणसी, इंटरनेट डेस्‍क। बनारस शहर की कई खबरों ने रविवार को चर्चा बटोरीं जिनमें तीन लड़कियां गंगा में डूबीं, बनारस स्‍टेशन पर डॉग कैनाल, श्रीकाशी विश्वनाथ धाम पर शोध, लहरतारा जलाशय के जलस्तर में सुधार, संदिग्ध हाल में मौत आदि प्रमुख खबरें रहीं। जानिए शाम छह बजे तक की शहर-ए-बनारस की पांच प्रमुख और चर्चित खबरें।

मीरजापुर से लौटते समय गंगा में वाराणसी के टिकरी गांव की तीन लड़कियां डूबीं, राहत और बचाव कार्य जारी

अदलहाट थाना क्षेत्र के नरायनपुर रायपुरिया स्थित गंगा नदी में रविवार की दोपहर बाद एक नाव पलटने से तीन लड़कियां गंगा में लापता हो गईं, वहीं हादसे में एक महिला को बचा लिया गया है। हादसे के बाद मौके पर आसपास के लोगों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। शाम तक पुलिस की सूचना मिलने के बाद मौके पर जल पुलिस की टीम भी पहुंची और डूबी लड़कियों की तलाश शुरू की। मौसम का बदला हुआ रुख और शाम होने की वजह से राहत और बचाव कार्य में भी काफी बाधा आई। हादसे की जानकारी होने के बाद मौके पर लोगों की भारी भीड़ जमा हो गयी। जानकारी के अनुसार सभी वाराणसी के टिकरी गांव के निवासी हैं और नरायनपुर के रैपुरिया स्थित गंगा घाट पर सूरदास आश्रम में आयोजित भण्डारे में शामिल होने आयी थीं। घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने बचाव कार्य शुरू कराया।

वाराणसी में रेलवे सुरक्षा बल को मिली मजबूती, रेलवे स्टेशन पर बना डॉग कैनाल

अब रेल अपराधियों का बच निकलना मुश्किल हो जाएगा। प्रशिक्षित श्वान चार्ली, ड्यूक, रॉकी और रियो अपराधियों को सलाखों के पीछे भेजने में सहायक होंगे। दरअसल, लंबे समय से महसूस की जा रही आवश्यकता को देखते हुए बनारस (मंडुआडीह) स्टेशन पर डॉग कैनाल (श्वान शाखा) की स्थापना की गई। इसका अनावरण रविवार को डीआरएम रामश्रय पांडेय ने फीता काटकर किया। इसके उपरांत उन्होंने नवनिर्मित डॉग कैनाल भवन का निरीक्षण किया। यहां मौजूद स्निफर डॉग ने सिर झुकाकर डीआरएम का अभिवादन किया। डॉग हैंडलर मुकेश कुमार, राम सहारे तिवारी व धनेश्वर टुडू ने श्वान के टीकाकरण, पोषक खुराक और उनके व्यायाम व प्रशिक्षण से जुड़ी जानकारी रेल अफसरों को दी। आरपीएफ श्वान शाखा प्रभारी सुधाकर तिवारी ने बताया कि इन प्रशिक्षित श्वानों को पशु चिकित्सक के सलाह पर डॉग फूड लिवर टॉनिक, कैल्शियम, मल्टी विटामिन दिए जाते है।

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम पर शोध करेगी काशी, सेंटर आफ एक्सीलेंस के तहत विश्वविद्यालयों से मांगा प्रस्ताव

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम से लगायत काशी में तमाम तमाम विकास कार्य हुए हैं और लगातार हो भी रहा है। इसके बावजूद एक काम अब भी छूटा हुआ है उसकी कमी काशी ही नहीं दुनिया के इतिहासकार लंबे समय से महसूस कर रहे हैं। उस कार्य का पूरा करने का बीड़ा अब काशी के उच्च शैक्षिक संस्थानों ने उठाया है। वह है श्रीकाशी विश्वनाथ धाम पर शोध। श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर के गौरवशाली इतिहास पर महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के गांधी अध्ययनपीठ के सभागार में रविवार को आयोजित इतिहासकारों के सम्मेलन का यह निष्कर्ष रहा। सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए उच्च शिक्षा की मुख्य अपर सचिव मोनिका एस. गर्ग ने कहा कि वास्तव में काशी पर बहुत काम हुआ है लेकिन श्रीकाशी विश्वनाथ धाम पर काम करने की आवश्यकता है।

वाराणसी के लहरतारा जलाशय के जलस्तर में सुधार, सूक्ष्मजीवी के स्तर में 90 फीसद की भारी गिरावट

वाराणसी शहर में जल जागरूकता और जल प्रचुरता के निर्माण तथा लहरतारा जलाशय के पुनरुद्धार के लिए चलाई गई परियोजना के तहत शनिवार को कबीर मठ लहरतारा में उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड क्षेत्रीय कार्यालय की पूर्व उपचार और उपचार के बाद के जल प्रतिदर्श परीक्षण रिपोर्ट जारी की गई। भारतीय मजदूर संघ के क्षेत्रीय संगठन मंत्री अनुपम ने लहरतारा जलाशय कायाकल्प परियोजना के तहत एक महीने में हुई प्रगति की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि लहरतारा जलाशय में घुलित आक्सीजन स्तर में 100 फीसद से अधिक सुधार के साथ इतिहास में पहली बार झील के पानी में घुलित आक्सीजन का स्तर गंगा के जल से भी अधिक पाया गया है। फिकल कालीफार्म (सूक्ष्मजीवी) के स्तर में 90 फीसद की भारी गिरावट, जल स्वच्छता के सुधार को दर्शाती है। मठ के व्यवस्थापक गोविंद दास ने कहा कि काउनामिक्स अर्क सतत, व्यावहारिक, समग्र और सिद्ध तकनीक है, जिसे स्वदेशी रूप से वैदिक विज्ञान और भारतीय शास्त्रों के आधार पर विकसित किया गया है।

वाराणसी में लंका इलाके में संदिग्ध परिस्थितियों में युवक की मौत, पुलिस ने बताया दुर्घटना में हुई मौत

लंका थाना क्षेत्र के रमना चौकी अंतर्गत बाइपास के किनारे संदिग्ध परिस्थितियों में युवक की मौत हो गई। स्वजनों के अनुसार साथ काम करने वाले लड़के अंकित को लेकर निजी अस्पताल पहुंचे जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। इसके बाद ट्रामा सेंटर लेकर गए।मामले की जानकारी स्वजनों को भोर में तीन बजे मिली। इसके बाद पुलिस को घटना की जानकारी दी जिसके बाद मौके पर पहुंची लंका पुलिस ने फिंगरप्रिंट यूनिट को बुलाकर जांच कराई। इस मामले में लंका थाना प्रभारी निरीक्षक वेद प्रकाश राय ने बताया कि प्रथमदृष्टया मामला दुर्घटना का लग रहा है। पुलिस ने ट्रैक्टर से गिरकर मौत की आशंका जताई है।गोली चलने की घटना को इंस्पेक्टर ने अफवाह बताई है।

Edited By: Abhishek Sharma