गाजीपुर, जेएनएन। यूपी बोर्ड की परीक्षा में इस बार कानूनी सख्‍ती की वजह से नकल के कम ही मामले सामने आ रहे हैं और जहां मामले सामने आ रहे हैं वहां सख्‍त कार्रवाई भी की जा रही है। इसी कड़ी में यूपी बोर्ड परीक्षा के प्रश्न पत्र गायब होने के मामले में पुलिस ने नंदगंज थाना क्षेत्र के रामलखन दास खंडेश्वरी महाराज जी इंटर कालेज देवसिहां नैसारा के केंद्र व्यवस्थापक सहित तीन आरोपितों को पकड़ कर जेल भेज दिया। प्रश्न पत्रों की गड़बड़ी जिलाधिकारी ओमप्रकाश आर्य ने उक्त परीक्षा केंद्र के निरीक्षण के दौरान पकड़ी थी। जेल भेजे गए आरोपितों में केंद्र व्यवस्थापक वीरसेन क्रांति सिंह यादव निवासी बड़हरा नंदगंज, सहायक अध्यापक अवधेश सिंह यादव निवासी दवोपुर नंदगज तथा विद्यालय के प्रधान लिपिक त्रिपुरारी दूबे निवासी सिहोरी नंदगंज शामिल हैं। थानाध्यक्ष ने सभी को मीडिया के सामने पेश किया।

पिछले शनिवार को उक्त विद्यालय पर सुबह पाली में हाईस्कूल विज्ञान की परीक्षा में जिलाधिकारी तथा पुलिस कप्तान द्वारा सुबह 8.20 औचक निरीक्षण किया गया था जिसमें दो प्रश्न पत्रों की हेरा फेरी मिली। इन गायब प्रश्नपत्रों के बारे में संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर जिलाधिकारी ने वाह्य केंद्र व्यवस्थापक को थाना में मुकदमा दर्ज कराने का निर्देश दिया। बाह्य केंद्र व्यवस्थापक अजय कुमार सिंह ने नंदगंज थाना में परीक्षा कक्ष में पेपर वितरण के समय दो प्रश्न पत्र की हेराफेरी करने का मुकदमा अज्ञात के खिलाफ दर्ज कराया।

तहरीर में बताया गया कि विज्ञान के विषय के प्रश्नों की कुल संख्या 490 विद्यालय को आवंटित थी। इसमें से 415 प्रश्न पत्रों का वितरण छात्रों के बीच में किया गया था जिसमें 73 पेपर की वापसी दिखाई गई थी। लेकिन अभिलेख के अनुसार दो प्रश्न पत्र कम मिला था। इस पर कार्रवाई करते हुए थानाध्यक्ष राजेश त्रिपाठी ने तीन आरोपितों को चिह्नित किया और रविवार को विद्यालय परिसर से उन्हें गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के बाद उनकी निशानदेही पर विज्ञान के गायब दो प्रश्नपत्रों को विद्यालय से ही बरामद किया गया। 

Posted By: Abhishek Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस