जागरण संवाददाता, चंदौली। पीडीडीयू नगर जंक्शन पर शनिवार की रात नो बिल-फूड इज फ्री जागरूकता अभियान चलाया गया। प्लेटफार्म दो पर आरपीएफ द्वारा संचालित सीसीटीवी निगरानी कक्ष से विभिन्न प्लेटफार्मों के कैटरिंग स्टाल की गतिविधियों का जायजा लिया गया। इस दौरान उन स्टाल को चिह्नित किया गया, जो ग्राहक को बिल नहीं दे रहे थे। अधिकारियों ने चार स्टालों से पांच यात्रियों को पैसे वापस कराए गए और जुर्माना के तौर पर मुफ्त में खाने का सामान दिलवाया। संचालकों को हिदायत दी गई कि यात्रियों को बिल भी दें। वहीं रेलवे की ओर से फ्री में भोजन पाने के बाद पांचों यात्रियों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। 

जंक्शन पर खान पान के स्टाल संचालक दुकानों पर न तो सामान के दामों की सूची चस्पा करते हैं और न ही यात्रियों को बिल देते हैं। ऐसे में यात्रियों से अधिक रुपये वसूल लेते हैं। ट्रेन पकड़ने की जल्दबाजी में यात्री अधिक रुपये देकर चले जाते हैं। मंडल रेल प्रबंधक राजेश कुमार पांडेय ने निर्देश दिया है कि अगर यात्रियों को बिल नहीं दिया तो यात्री को रुपये वापस करना पड़ेगा। वरीय मंडल वाणिज्य प्रबंधक रुपेश कुमार के नेतृत्व में वाणिज्य विभाग सीसीटीवी कैमरे से निगरानी करने के बाद स्टालों की जांच शुरू की।

दरअसल रेलवे की ओर से बिल नहीं तो फूड फ्री का अभियान शुरू होने के बाद भी फूड आपूर्तिकर्ता यात्रियों को बिल नहीं देते। वहीं बिल मांगने पर आनाकानी भी करने की कई बार शिकायत मिलने के बाद आखिरकार यात्रियों के हित में पीडीडीयू जंक्‍शन पर यह कार्रवाई करनी पड़ी। वहीं भोजन फ्री होने की बात जानकारी यात्रियों की खुशी का भी ठिकाना नहीं रहा। बिल नहीं देने पर यात्री को पैसे वापस करने की अनिवार्यता के बारे में बताते हुए सभी स्टाल संचालकों को यात्रियों को बिल देने की हिदायत दी गई। यात्रियों को भी खानपान स्टाल से सामान खरीदने पर बिल अवश्य लेने के लिए जागरूक किया गया। अभियान में सहायक वाणिज्य प्रबंधक आरएन त्रिवेदी सहित अन्य कर्मचारी शामिल रहे। 

Edited By: Abhishek Sharma