वाराणसी, मुकेश चंद्र श्रीवास्तव। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से काशी में बनने वाले लकड़ी के खिलौनों के प्रोत्साहन को उठाए गए कदम के बाद देश-विदेश में मांग बढ़ गई है। सिंगापुर से 83 सेट के साथ ही दक्षिण भारत से भी 30 सेट भगवान श्रीकृष्ण लीला की झांकी का आर्डर मिला है। काशी की शुभी ने इस झांकी की डिजाइन बनाकर कंपनियों से संपर्क किया था। वहां से स्वीकृति मिलने के बाद शिल्पी व उद्यमी बिहारी लाल अग्रवाल के नेतृत्व में 24 परिवार झांकी बनाने में जुट गए। इसके कारण कोरोना काल में भी उन्हें रोजगार मिला। एक सेट बनाने में करीब ढाई माह का समय लगा। अब तक करीब 240 सेट झांकी बनाई जा चुकी है। इससे शिल्पकारों की आय भी बढ़ रही है।

जन्म से लेकर महाभारत तक की लीला

इस झांकी में श्रीकृष्ण जन्म से लेकर महाभारत तक की लीला शामिल हैं। गोपियों से रासलीला, मथुरा, वृंदावन, माखन चोरी, गोपियों का वस्त्र चुराने, गोवर्धन पर्वत, नाग नथैया, द्रौपदी चीरहरण, सुदामा चरित्र, मीराबाई, नाव में प्रभु, पूतना, कंस वध भी शामिल है। साथ ही इसी झांकी में तोता, मोर, गाय, घोड़ा आदि को भी दर्शाया गया है। गौरतलब है कि इसी महीने श्रीकृष्ण जन्माष्टमी भी है।

कई शहरों से मांग बढ़ी

बिहारी लाल अग्रवाल बताते हैं कि कोरोना की दूसरी लहर के कारण बाजार व अन्य गतिविधियां बंद थीं तब इसकी डिजाइन तैयार कर इंटरनेट के माध्यम से मांग ली गई। उसी समय शिल्पी अपने घर में ही इसे बनाने में जुट गए। झांकी का पिछले दिनों विश्वनाथ गली व लोलार्ककुंड स्थित कारखाने में प्रदर्शनी लगाई गई। बताया कि अब तो मथुरा, वृंदावन, दिल्ली, पूना, जयपुर, मुंबई व गुजरात से भी मांग आ रही है। इसके अलावा वाराणसी के लिए विशेष 40 सेट तैयार किया गया है। वाराणसी के लकडी के खिलौने की काफी मांग देश-विदेश में हाेती रहती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रोत्‍साहन के बाद इस दिशा में और भी ज्‍यादा तेजी देखने को मिल रही है।

Edited By: Saurabh Chakravarty