जागरण संवाददाता, वाराणसी। स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 के परिणाम की उलटी गिनती शुरू हो गई है। अब भी गंदगी से जंग बड़ी चुनौती है। हालांकि, वित्तीय वर्ष 2020-21 वित्तीय वर्ष में हुए कार्यों का मूल्यांकन हो चुका है। अब स्वच्छता सर्वेक्षण के रिजल्ट का इंतजार है जो एक सप्ताह में घोषित हो जाएगा।

पूर्व में हुए स्वच्छता सर्वेक्षण के रिजल्ट ने यह स्पष्ट किया है कि नगर निगम की ओर से प्रयास में स्थायित्व की कमी है। परिणाम, स्वच्छता सर्वेक्षण में वाराणसी पिछड़ जाता रहा है। स्मार्ट सिटी होने के बाद भी कचरा प्रबंधन में आपेक्षित सफलता नहीं मिली है। अफसरों की निगरानी और कार्य की जवाबदेही नहीं होना अब तक के प्रयास पर गंदगी भारी पड़ रही है। सामान्य दिनों में अन्य शहरों के अपेक्षा वाराणसी में रोजना करीब डेढ़ लाख लोग आते हैं। देव दीपावली, दुर्गा पूजा, गंगा स्नान, महाशिवरात्रि पर्व आदि होने पर यह संख्या एक करोड़ के पास पहुंच जाती है। ऐसे में बाहर से आने वाले सैलानियों की संख्या के कारण स्वच्छता मिशन बड़ी चुनौती बन जाती है। एक दर्जन से अधिक परियोजनाओं का निर्माण, मुकम्मल सीवर लाइनें आदि न होना गंदगी से जंग में बड़ी बाधा है।

इस बार 3600 का पूर्णांक

स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 इस बार छह हजार अंकों का होगा। सिटीजन वाइस व सर्टिफिकेशन के 3600 अंक हैं। सर्विस लेवल प्रोग्रेस के 2400 अंक होंगे। सिटीजन वाइस में लोगों की ओर से शहर के बारे में दी जाने वाली फीडबैक के 600, अनुभव के 300, इंगजेमेंट के 450, स्वच्छता एक के 350, इनोवेशन के 100 अंक हैं।

जल संरक्षण पर विशेष फोकस

स्वच्छता सर्वेक्षण में इस बार जल संरक्षण पर भी खास ध्यान दिया गया है। स्वच्छता सर्वेक्षण में इस बार जल संरक्षण के लिए भी अंक होंगे। सर्टिफिकेशन के 700 अंकों में एक तिहाई अंक जल संरक्षण के होंगे। इसमें सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट और सामुदायिक शौचालय के पानी का री-यूज तथा पार्कों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग को लेकर क्या-क्या इंतजाम किए गए हैं। जल संरक्षण की दिशा में जितने च्यादा प्रबंध किए गए होंगे, शहर को उतने ही अच्छे अंक मिलेंगे।

स्वच्छता सर्वेक्षण में बड़ी चुनौती

-अब तक गीला व सूखा कचरा का पृथकीकरण न होना।

-आर्गेनिक कचरे का प्रसंस्करण प्लांट बंद होना।

-सड़क किनारे व गलियों में पड़े मलबा का निस्तारण नहीं होना।

-शहर के कचरा घर को बंद नहीं किया गया।

-शुद्ध पेयजल आपूर्ति अब भी दूर की कौड़ी।

-लीकेज व अन्य कारणों से 50 फीसद तक पेयजल की होती है बर्बादी।

-कुंड व तालाबों के जीर्णोद्धार की कछुआ चाल।

-पार्कों व बड़ी बिल्डिंग में रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम का अभाव।

-पुरानी सीवर लाइन में ओवर लोड से ओवरफ्लो के कारण बजबजाते कई इलाके।

-नई सीवर लाइन का जनोपयोगी न होने से नाले में बहती 27 हजार शौचालयों की गंदगी

-25 हजार शौचालय सोख्ता पिट पर आधारित होना।

-जल संचयन के लिए बने स्टार्म वाटर ड्रेनेज सिस्टम का फेल होना। -नगरीय सुविधाओं से जुड़ी समस्याओं का आनलाइन निस्तारण।

स्वच्छता सर्वेक्षण का रिजल्ट एक सप्ताह के अंदर आने की पूरी संभावना है

स्वच्छता सर्वेक्षण का रिजल्ट एक सप्ताह के अंदर आने की पूरी संभावना है। इस बार वाराणसी ने बेहतर कार्य किया है। बेहतर अंक मिलने की पूरी उम्मीद है।

डा. एनपी सिंह, नगर स्वास्थ्य अधिकारी

Edited By: Saurabh Chakravarty