मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

वाराणसी, जेएनएन । दाखिले के लिए आवेदन करने के अंतिम दिन महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ की वेबसाइट धोखा दे दिया। ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा शुल्क जमा करने के बावजूद कई अभ्यर्थी आवेदन से वंचित हो गए। इन अभ्यर्थियों का प्रवेश परीक्षा शुल्क भी फंस गया था। इसे देखते हुए विद्यापीठ प्रशासन ने  ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि 30 अप्रैल तक के लिए बढ़ा दी है।

 स्नातक, स्नातकोत्तर व व्यावसायिक, डिप्लोमा व एमफिल पाठ्यक्रम में दाखिले के आवेदन 11 मार्च से ही ऑनलाइन था। अंतिम तिथि 15 अप्रैल निर्धारित थी। वहीं अंतिम दिन सोमवार को फार्म भरने वाले अभ्यर्थियों की संख्या अचानक बढ़ गई। वेबसाइट पर लोड बढऩे के कारण उसकी स्पीड धीमी हो गई। आवेदन करने में अभ्यर्थियों घंटों लग रहे थे। तमाम अभ्यर्थी देररात साइबर कैफे में डटे रहे। इसके बावजूद कई छात्र आवेदन से वंचित रह गए। आवेदन करने की तिथि बढऩे से ऐसे सैकड़ों छात्रों को अब राहत मिल गई है। दूसरी ओर 36 दिनों में इस वर्ष विभिन्न पाठ्यक्रमों में महज 22 हजार आवेदन आए हैं। जबकि गत सत्र में करीब 32 हजार अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था। इसे देखते हुए विद्यापीठ ने आवेदन करने की तिथि बढ़ा दी है। यूपी बोर्ड का रिजल्ट जारी होने के बाद अभ्यर्थियों की संख्या में और वृद्धि होने की संभावना है। यूपी बोर्ड के हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा का रिजल्ट 20 मई तक आने की संभावना है।

प्रवेश परीक्षा 25 मई से

स्नातक व स्नातकोत्तर के विभिन्न पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए परीक्षा 25 मई से 31 मई तक दो पालियों में होगी। ऐसे में अप्रैल तक आवेदन ऑनलाइन किया जा सकता है।

दोगुने से कम आवेदन पर मेरिट से दाखिला

जिन पाठ्यक्रमों में आवेदन पत्रों की संख्या निर्धारित सीट से दोगुने से कम होगी। उन पाठ्यक्रमों में प्रवेश परीक्षा नहीं कराई जाएगी। कुलसचिव डा. एसएल मौर्य ने बताया कि ऐसे पाठ्यक्रमों में मेरिट से दाखिला होगा।

Posted By: Vandana Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप