चंदौली, जागरण संवाददाता। कोरोना को लेकर हालात सामान्य होने के बाद स्कूलों में पठन-पाठन भले ही शुुरू कर दिया गया है, लेकिन खतरा अभी पूरी तरह से टला नहीं है। ऐसे में शासन ने बच्चों की संख्या के आधार पर विद्यालयों के संचालन का निर्देश दिया है। छात्रों की संख्या अधिक होने पर दो व कम होने पर एक पाली में माध्यमिक स्कूल चलेंगे। कक्षाओं में भी छात्रों से कोविड प्रोटोकाल का पालन कराया जाएगा। ताकि संक्रमण की आशंका न रहे।

जिले में लगभग 200 माध्यमिक स्कूल हैं। इसमें राजकीय, शासकीय सहायता प्राप्त, वित्तविहीन माध्यमिक विद्यालय हैं। स्कूलों में पठन-पाठन शुरू होने के बाद छात्र-छात्राएं पढ़ाई करने के लिए पहुंच रहे हैं। कोरोना का संक्रमण अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है। इसकी वजह से एहतियात बरतने का निर्देश दिया गया है। अपर मुख्य सचिव ने जिला विद्यालय निरीक्षकों को पत्र भेजा है। इसके अनुसार जहां बच्चों की संख्या काफी कम है, वे विद्यालय एक पाली में सुबह नौ से दोपहर तीन बजे तक संचालित किए जाएंगे। जिन स्कूलों में छात्रों की संख्या अधिक है, वहां दो पालियां चलाई जाएं। पहली पाली में सुबह आठ से दोपहर 12 और दूसरी पाली में दोपहर 12:30 से शाम चार बजे तक पठन-पाठन होगा। छात्रों को दो पालियों में बांटने से स्कूलों में भीड़ कम होगी। इससे कक्षाओं में कोविड प्रोटोकाल का पालन कराना आसान होगा।

निजी विद्यालयों को भी करना होगा पालन : जिले के निजी माध्यमिक स्कूलों को भी शासन की गाइडलाइन का पालन करना होगा। इसके बाबत जिला विद्यालय निरीक्षक की ओर से सभी विद्यालयों के प्रधानाचार्य और प्रबंधकों को सूचित किया गया है। मानक की अनदेखी करने वाले स्कूलों पर गाज भी गिर सकती है।

बोले अधिकारी : ‘स्कूलों में पठन-पाठन के दौरान पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं। सभी माध्यमिक स्कूलों के साथ ही सभी बोर्डों के निजी विद्यालयों में भी यह लागू होगा। स्कूलों की समय-समय पर जांच की जाएगी। निर्देश की अवहेलना करने वाले प्रधानाचार्यों पर कार्रवाई हो सकती है। - डाक्टर विजय प्रकाश सिंह, जिला विद्यालय निरीक्षक। 

Edited By: Abhishek Sharma