वाराणसी, जागरण संवाददाता। प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने गुरुवार को वाराणसी दौरे के क्रम में सबसे पहले अर्दली बाजार के एलटी कालेज परिसर में स्थापित अक्षय पात्र का शुभारंभ किया। अक्षय पात्र फाउंडेशन की ओर से स्थापित देश की 62वीं व प्रदेश की इस चौथी केंद्रीयकृत मध्याह्न भोजन रसोई में एक घंटे में 40 हजार रोटियां बनेंगी तो 45 मिनट में 130 किलोग्राम चावल पक जाएगा।

वहीं 1200 किलोग्राम दाल-सब्जी पकने में सिर्फ 1.30 घंटे लगेंगे जो छह हजार बच्चों के लिए पर्याप्त होगा। आटा गूंथने से लेकर रोटी बनाने, चावल-दाल-सब्जी धोने, मसाला पीसने और पकाने तक का काम अत्याधुनिक मशीनों से होगा। इस तरह इस रसोई को प्लांट कहा जा सकता है। इसकी क्षमता चार घंटे में एक लाख बच्चों का भोजन तैयार करने की है। पहले चरण में सेवापुरी ब्लाक के 48 परिषदीय विद्यालयों के 27000 बच्चों को मध्याह्न भोजन उपलब्ध कराया जाएगा।

नई रसोई देश में 282 स्कूलों में 100,000 से अधिक बच्चों की सेवा करने में सक्षम बनाएगी

भारत के माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति में वाराणसी में अक्षय पात्र फाउंडेशन की नई रसोई का उद्घाटन किया। वेस्टब्रिज कैपिटल द्वारा समर्थित यह अत्याधुनिक केंद्रीकृत रसोई 3 एकड़ के क्षेत्र में फैली हुई है। यह देश में अक्षय पात्र की 62वीं और उत्तर प्रदेश राज्य में पांचवीं रसोई है। यह फाउंडेशन को प्रधानमंत्री पोषण शक्ति निर्माण (पीएम पोषण) [पूर्व में मध्याह्न भोजन (एमडीएम) योजना के माध्यम से 100,000 से अधिक बच्चों के जीवन को सकारात्मक रूप से प्रभावित करने में सक्षम बनाएगा।

उद्घाटन समारोह के मुख्य अतिथि माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी थे, जबकि बतौर विशिष्ट अतिथि माननीया राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल और माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ मौजूद थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता अक्षय पात्र के अध्यक्ष, श्री मधु पंडित दास और उपाध्यक्ष श्री चंचलपति दास ने की।

उद्घाटन कार्यक्रम के बाद रसोई का भ्रमण कराया गया और बच्चों को प्रतीकात्मक भोजन परोसा गया। उपस्थित गणमान्य व्यक्तियों ने फीडिंग प्रोग्राम के माध्यम से देश में भूख और कुपोषण को दूर करने के अक्षय पात्र के प्रयासों की खुलकर सराहना की और संगठन के प्रयासों को अपना समर्थन देने का वचन दिया।

अक्षय पात्र फाउंडेशन के अध्यक्ष, श्री मधु पंडित दास ने अपना आभार व्यक्त करते हुए कहा, “मैं माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के प्रति अपना हार्दिक आभार प्रकट करता हूँ कि वो अपने व्यस्त कार्यक्रम में से समय निकालकर वाराणसी में हमारी नई रसोई का उद्घाटन करने के लिए आए। मैं इस शुभ अवसर की शोभा बढ़ाने के लिए माननीय राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल जी और माननीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी को धन्यवाद देना चाहता हूं। आज हम उत्तर प्रदेश सरकार के साथ अपने सहयोग का एक और अध्याय लिख रहे हैं।

हम वाराणसी के बच्चों की सेवा करने के लिए अवसर प्रदान किए जाने हेतु सरकार के बहुत आभारी हैं और इस मौके पर विभिन्न विकास कार्यक्रमों एवं प्रशासन की पहल के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को दोहराना चाहते हैं। मैं इस रसोई को स्पॉन्सर करने और कक्षा के बच्चों को भोजन उपलब्ध कराने के हमारे प्रयासों का समर्थन करने के लिए वेस्टब्रिज कैपिटल के सह-संस्थापक और प्रबंध निदेशक, श्री संदीप सिंघल और उनकी टीम को भी धन्यवाद देना चाहता हूं।" उन्होंने आगे कहा, "सभी हितधारकों के इस तरह के सहयोगात्मक प्रयास निश्चित रूप से हमें एक ऐसी दुनिया सुनिश्चित करने के हमारे मिशन के करीब ले जाएंगे जहां बच्चों को शिक्षा और भोजन में से किसी एक को चुनने की बाध्यता नहीं होगी। अंत में, मैं पिछले 21 वर्षों से बच्चों और समुदायों की सेवा करने के हमारे प्रयासों में भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय (एमओई) द्वारा निरंतर समर्थन किए जाने के लिए उनको धन्यवाद देना चाहता हूं।"

अक्षय पात्र 2004 से स्कूल लंच कार्यक्रम के लिए उत्तर प्रदेश सरकार का कार्यान्वयन भागीदार रहा है। नई रसोई के शुभारंभ के साथ, फाउंडेशन वाराणसी में कार्यक्रम को लागू करेगा।नई इकाई विश्व स्तरीय विनिर्माण पद्धतियों और स्वच्छता, खाद्य सुरक्षा और गुणवत्ता के उच्चतम मानकों का पालन करेगी ताकि पौष्टिक मध्याह्न भोजन पका कर इस क्षेत्र के बच्चों तक पहुंचाया जा सके। इसकी मुख्य विशेषताओं में 40,000 रोटियां/घंटा क्षमता वाली रोटी मशीन, हाइड्रोलिक सिस्टम के साथ 700 लीटर क्षमता वाली चावल की कड़ाही, स्वचालित मोटर्स के साथ 1,200 लीटर क्षमता वाली दाल की कड़ाही और जल शोधन के लिए एक आरओ प्लांट शामिल हैं।

अपनी नीति में स्थिरता को एकीकृत करने के अपने प्रयासों के अलावा, अक्षय पात्र पानी को उबालने के लिए हीट पंप और सौर वॉटर हीटर के साथ बिजली उत्पादन के लिए सौर पैनलों का उपयोग करेगा जिसका उपयोग उत्पादन में किया जाना है।

एमडीएम दिशानिर्देशों का पालन करते हुए और स्थानीय पैलेट के अनुसार भोजन परोसने के व्यवहार के अनुसार, वाराणसी के लिए अक्षय पात्र के मेनू में मिश्रित शाकाहारी सोया मसाला, छोले मसाला, राजमा मसाला, रोटी, जीरा चावल, सादा चावल, शाकाहारी पुलाव, मसाला भाजी पुलाव, खीर और एक फल शामिल होंगे।

Edited By: Saurabh Chakravarty