वाराणसी, जेएनएन। खेल निदेशालय इस बार सत्र 2019-20 में अपने यहां उन्हीं खेल प्रशिक्षकों को मानदेय पर नियुक्त करेगा जो चयन परीक्षण में पास होंगे। उत्तर प्रदेश के खेल निदेशक डा. आरपी सिंह ने बताया कि इस सत्र में प्रशिक्षक बनने के लिए प्रशिक्षकों और खिलाडिय़ों को अगले महीने लखनऊ में होने वाले चयन परीक्षण के दौर से गुजरना होगा। इसमें शारीरिक दक्षता के साथ-साथ खेल का स्तर भी देखा जाएगा। देखने में आ रहा है कि कई अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी भी अच्छे कोच साबित हो रहे हैं। दो साल से कोचों का नवीनीकरण हो रहा था। ऐसा इसलिए किया जा रहा है कि युवा लोगों को भी कोचिंग का मौका मिल सके। इस बार 450 के लगभग प्रशिक्षकों को प्रशिक्षण देने के लिए मानदेय पर रखा जाएगा। पिछले वर्ष यह संख्या 346 थी। हॉकी, बैडमिंटन, कुश्ती, बॉक्सिंग, एथलेटिक्स के अलावा नौकायन और साइकिलिंग में भी प्रशिक्षण दिया जाएगा। 

खेल निदेशक ने बताया कि अप्रैल से प्रशिक्षण का कार्य शुरू होगा। इस बार 11 महीने का प्रशिक्षण शिविर चलेंगे। इसके लिए कोष मिल गया है। हमे ऐसे खेल प्रशिक्षक नहीं चाहिए जो मैदान के बाहर से प्रशिक्षुओं को निर्देश देते हैं। अब उनको प्रशिक्षुओं के साथ मैदान पर पसीना बहाना होगा। 

Posted By: Abhishek Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप