जागरण संवाददाता, वाराणसी। पर्यटन स्थल सारनाथ में रेलवे स्टेशन पर यात्रियों की सुविधा जानने के लिए शुक्रवार को रेलवे बोर्ड के यात्री सेवा समिति के तीन सदस्यीय दल ने निरीक्षण किया। इस दौरान उन्हें अनेक खामियां देखने को मिलीं। इस पर उन्होंने खिन्नता जताई। प्लेटफार्म कोपिंग धंसने से यात्रियों को ट्रेनों पर चढ़ने में हो रही परेशानी पर भी नाराजगी जताई। उसे तत्काल ठीक करने का निर्देश दिया। साथ ही यात्रियों से बातचीत की। इसके बाद रेल कर्मचारियों को स्वच्छता की शपथ दिलाई।

रेलवे बोर्ड यात्री सेवा समिति के चेयरमैन रमेश चंद्र रत्न सहित तीन सदस्यीय दल 3:30 बजे सारनाथ रेलवे स्टेशन पहुंचा। वहां स्टेशन अधीक्षक एसपी सिंह ने स्वागत किया। निरीक्षण के दौरान प्लेटफार्म कोपिंग ठीक कराने के अलावा यात्रियों के पीने की पानी की टोंटी भी तुरंत ठीक कराने को कहा। प्रतीक्षालय में कूड़ादान रखने की बात कही। स्टेशन पर यात्रियों की सुविधा के लिए बेंच व पंखों की संख्या एक सप्ताह के अंदर बढ़ाने, स्टेशन के मुख्य गेट को आकर्षक ढंग से बनवाने का निर्देश दिया। यात्रियों की सुरक्षा को लेकर पुलिस चौकी व सीसी कैमरे 15 दिनों के अंदर लगाने काे कहा।

बौद्ध भिक्षु ने ट्रेन रोकने की सिफारिश : धम्म शिक्षण केंद्र के प्रभारी भिक्षु चंद्रिमा ने चेयरमैन रमेशचंद्र रत्न से बुद्ध पूर्णिमा एक्सप्रेस को पुनः सारनाथ से चलाने व इंटरसिटी, चौरी-चौरा, सारनाथ एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव के साथ यात्री शेड, सहित अन्य सुविधा को लेकर बातचीत की जिस पर उन्होंने आश्वासन दिया।

सुविधाओं को लेकर यात्रियों से की बात : चेयरमैन रमेश चंद्र रत्न निरीक्षण के दौरान प्लेटफार्म पर बैठे यात्रियों से सफाई, अधिकारियों का व्यवहार, स्वच्छ पानी के बारे में जानकारी ली। इसमें मऊ के राजेंद्र खरवार व सादात गाजीपुर के अंबिकानंद यादव, रंजना से स्वच्छ पानी, कर्मचारियों का व्यवहार,व समय से टिकट मिलने की जानकारी हासिल की। निरीक्षण के दौरान इतेंद्र सिंह, सुरेंद्र भगत, रामकिशन, अपर मंडल रेल प्रबंधक ज्ञानेश त्रिपाठी, संजीव शर्मा, उत्तम उपाध्याय, असित कुमार घोष, अजय नारायण पांडेय आदि शामिल थे।

Edited By: Abhishek Sharma