भदोही, जेएनएन। यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि किसी भी देश व राष्ट्र के विकास में लघु उद्योगों की प्रमुख भूमिका है। बदलते परिवेश में लोगों की पसंद भी बदली है। मंदी के दौर से उबरने को उत्पादकों को बाजार पर गहरी नजर बनाए रखने की जरूरत है। अब भदोही के कालीन की सेहत सुधरेगी। वह भदोही के अखिल भारतीय कालीन निर्माता संघ के सभागार में बुधवार को बैठक में कालीन उद्यमियों के जख्मों पर मरहम लगा रहीं थी।

उन्होंने कालीन मंदी को लेकर मंत्री और सचिव बात करने के लिये कहा। उन्होंने कहा कि बाजार के प्रचलन के अनुसार ही उत्पादन कराया जाना चाहिए। केंद्र व प्रदेश सरकार बुनकरों व लघु उद्योगों के विकास के लिये योजनाएं चला रही है। उद्योग को इसका लाभ मिल रहा है या नहीं, यह भी सुनिश्चित कराने की जरूरत है। इसके पहले उन्होंने गोपीगंज में अरुणांचल प्रदेश के राज्यपाल ब्रिगेडियर बीडी मिश्र के निवास कठौता गांव में उनके पिता पंडित जगन्नाथ मिश्र के स्मृति में बने मुख्य द्वार का लोकार्पण भी किया।

 

टाउन ऑफ एक्सपोर्ट एक्सीलेंस की प्रगति भी पूछी

राज्यपाल ने टाउन आफ एक्सपोर्ट एक्सीलेंस (विशिष्ट निर्यात नगर) के रूप में हुई घोषणा की प्रगति भी पूछी। इस पर कालीन निर्यात सवंर्धन परिषद (सीईपीसी) के चेयरमैन सिद्धार्थनाथ सिंह ने अब तक संबंधित मंत्रालय से हुई वार्ता व प्रगति से अवगत कराया। इससे पहले एकमाध्यक्ष ओएन मिश्रा ने कालीन उद्योग की विशेषता, मंदी व विभिन्न समस्याओं से राज्यपाल को अवगत कराते हुए केंद्र सरकार के माध्यम से सहयोग की अपेक्षा की।

जिले के विकास का खींचा खाका 

राज्यपाल ने ज्ञानपुर स्थित गेस्ट हाउस में अधिकारियों के साथ बैठक कर केंद्र और प्रदेश सरकार की योजनाओं की समीक्षा भी की। इस दौरान स्वयंसेवी संगठनों के साथ मिलकर सामाजिक सरोकार के क्षेत्र में काम करने पर जोर दिया। भदोही विधायक रवींद्रनाथ त्रिपाठी, औराई विधायक दीनानाथ भाष्कर व ज्ञानपुर विधायक विजय मिश्र के साथ बैठक कर वह उनकी भी समस्याओं से रूबरू हुईं। इस मौके मंडलायुक्त प्रीति शुक्ला, डीआइजी पीयूष श्रीवास्तव, जिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद व पुलिस अधीक्षक रामबदन सिंह समेत कई अफसर मौजूद रहे।

 

 

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस