वाराणसी, जेएनएन। सड़कों-पुलों के निर्माण कार्यो की प्रगति जानने के लिए रविवार को काशी पहुंचे उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की बैठक से उनके विभागों के अफसर ही अनुपस्थित रहे। सर्किट हाउस में आयोजित बैठक से गायब सेतु निगम, निर्माण निगम व खाद्य प्रसंस्करण विभाग के अधिकारियों पर नाराजगी व्यक्त करते हुए जवाब-तलब किया। साथ ही कहा कि वाराणसी पीएम का संसदीय क्षेत्र है। यहा की सड़कें सदैव ठीक हालत में रहें। ऐसा निर्माण कार्य हो कि लोग सराहना करें। तभी कार्य ठीक माना जाएगा।

कार्यो को तेजी व गुणवत्ता के साथ पूर्ण करने का निर्देश देते हुए कहा कि सड़कों व पुलों के निर्माण में सुरक्षा मानकों का पूरा पालन किया जाए। जहा जरूरत हो डायवर्जन लें। किसी प्रकार की दुर्घटना न हो। सावधानी और सतर्कता बरती जाए। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों की क्षतिग्रस्त सड़कों की विशेष मरम्मत का स्टीमेट मागा, ताकि धन आवंटित कर ठीक कराया जा सके। - अच्छा कार्य करने वालों को देंगे प्रशस्ति पत्र अधिकारियों ने डिप्टी सीएम को बताया कि सकलडीहा-सैदपुर मार्ग व अलीनगर- सकलडीहा मार्ग को पैचलेस कर दिया गया है। बलुआ पुल मरम्मत कार्य पूर्ण हो गया है। यातायात सुचारू रूप से चल रहा है। अधिकारियों ने उपमुख्यमंत्री को बताया कि चौकाघाट-लहरतारा फ्लाइओवर का कार्य 82 फीसदी पूरा हो गया है। इसे तय सीमा में पूरा कर लिया जाएगा। इस पर डिप्टी सीएम ने कहा कि अच्छा कार्य करने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों को सार्वजनिक रूप से जल्द प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा। - नगर की सात मीटर चौड़ी सड़कें पीडब्ल्यूडी को दी जाएंगी उप मुख्यमंत्री को अधिकारियों ने बताया कि वाराणसी में लोक निर्माण विभाग की सड़कों की संख्या 50 है, जिनकी लंबाई 157.55 किलोमीटर है। सभी पर मरम्मत का कार्य पूर्ण हो चुका है। उपमुख्यमंत्री ने निर्देशित किया कि शहर की सात मीटर चौड़ाई वाली सड़कें जो नगर निगम की हैं उन्हें लोक निर्माण विभाग को हस्तातरित कराकर जल्द ही दुरुस्त की जाएं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस