वाराणसी, जेएनएन। बेसिक शिक्षा विभाग ने मरम्मत के नाम पर 12 परिषदीय विद्यालयों को बंद कर दिया है। इसमें किराये पर चल रहे आठ विद्यालय भी शामिल हैं जबकि किराये के भवनों में चल रहे सात विद्यालयों को अगले सत्र में स्थानांतरित करने का निर्णय लिया गया है। विभाग ने अब किराये के भवनों में विद्यालय न चलाने का निर्णय लिया है।

जनपद में 15 परिषदीय विद्यालय किराये के भवनों में चल रहे थे। इनमें ज्यादातर विद्यालयों के भवनों की स्थिति काफी खराब है। यही नहीं विद्यालय परिसर में शौचालय तक नहीं है। वहीं मकान मालिक भवनों की मरम्मत की अनुमति भी नहीं दे रहें हैं। इसे देखते हुए बेसिक शिक्षा विभाग ने किराये के भवनों में चल रहे विद्यालयों को चरणबद्ध तरीके से बंद करने का निर्णय लिया है। वहीं नगर के जर्जर विद्यालयों की मरम्मत भी कराई जा रही है ताकि कोई हादसा न हो सके। इसके तहत रामनगर स्थित प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालय के बच्चों को  चार दिन पहले पास के विद्यालयों में स्थानांतरित कर दिया गया। इससे पहले प्राथमिक विद्यालय, जगतगंज व  व बरथाकला को दूसरे विद्यालय में विलय किया गया था। मरम्मत का कार्य पूरा होते ही चौक, जगतगंज व बरथाकला स्थित विद्यालय पहले की भांति संचालित होंगे।

बंद हुए किराये के विद्यालयों के नाम 

प्राथमिक विद्यालय, (भोजूबीर-प्रथम), प्राथमिक विद्यालय (पांडेयपुर), प्राथमिक विद्यालय (कालभैरव), प्राथमिक विद्यालय (दुर्गाघाट), प्राथमिक विद्यालय (मातृमठ), प्राथमिक विद्यालय (लालपुर-द्वितीय) प्राथमिक विद्यालय (ईश्वरगंगी) व उच्च प्राथमिक विद्यालय (मातृमठ)।  

इन विद्यालयों को मरम्मत के लिए किया गया बंद 

प्राथमिक विद्यालय, (जगतगंज), प्राथमिक विद्यालय, (चौक), उच्च प्राथमिक विद्यालय (बरथा कला), उच्च प्राथमिक विद्यालय (चौक)।

किराये के भवनों में अब भी चल रहे आठ विद्यालय

प्राथमिक विद्यालय (मवैया), राजकीय प्राथमिक विद्यालय (शिवपुर), प्राथमिक विद्यालय (औसानगंज -प्रथम), प्राथमिक विद्यालय (औसानगंज -द्वितीय), प्राथमिक विद्यालय (छित्तनपुरा) व प्राथमिक विद्यालय (गणेश महाल)। 

 

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस