वाराणसी, जेएनएन। वायु प्रदूषण को लेकर जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा ने सख्ती दिखाई है। उन्होंने अर्दली बाजार तिराहा-महाबीर मंदिर मार्ग निर्माण में देरी को लेकर नाराजगी जताई है। इसमें लापरवाही बरतने पर नगर निगम प्रशासन को नोटिस जारी किया है। साथ ही बैठक में अनुपस्थिति पर मुख्य अभियंता का एक दिन का वेतन काटने का आदेश दिया है।

कैंप कार्यालय में बुधवार को पर्यावरण समिति, अस्सी नदी पुनरुद्धार तथा जिला गंगा समिति की बैठक में जिलाधिकारी ने एनजीटी के निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए आदेशित किया। कहा, इसमें किसी प्रकार से लापरवाही नहीं होनी चाहिए वरना जिम्मेदारी तय करते हुए संबंधित के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। नगर निगम को सड़कों की सफई को लेकर कहा कि डिवाइडर के दोनों ओर धूल को मशीन से साफ कराया जाए। नगर निगम तथा फायर ब्रिगेड की ओर से स्प्रिंकलर के माध्यम से सड़क समेत दोनों तरफ के पेड़ों पर पानी का छिड़काव किया जाए। क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण अधिकारी की ओर से जानकारी दी गई कि शहर में एक स्वचालित तथा चार मैनुअल मशीनों से प्रदूषण की जांच की जा रही है जिसमें मैनुअल मशीन से चांदपुर इंडस्ट्रियल स्टेट का क्षेत्र सबसे अधिक प्रदूषित मिला। स्वचालित मशीन से अर्दली बाजार क्षेत्र सबसे अधिक प्रदूषित पाया गया। क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण अधिकारी को एक हेल्पलाइन नंबर जारी करने का निर्देश जिलाधिकारी ने दिया।

ई-वेस्ट निस्तारण को कंपनियां बनाएं कलेक्शन सेंटर

जिलाधिकारी ने प्रदूषण के मद्देनजर ई-वेस्ट को भी गंभीरता से लिया है। इसके निस्तारण के लिए इलेक्ट्रानिक कंपनियां कलेक्शन सेंटर बनाने के लिए आदेशित किया। कहा है कि इलेक्ट्रानिक्स कंपनियां ई-वेस्ट बाई बैक करें। इसके लिए कंपनियों को नोटिस जारी करने के लिए निर्देशित किया है। ऐसे ही मेडिकल वेस्ट का निस्तारण सुनिश्चित कराने के लिए हास्पिटल को नोटिस जारी करने के लिए कहा है।

वायु प्रदूषण कम करने के लिए निर्देश

-सभी गाडिय़ों पर प्रदूषण चेक का स्टीकर लाग होना चाहिए।

-सड़कों पर जाम नहीं लगने दिया जाए।

-निर्माण सामग्री ढक कर रखी जाए।

-निर्माणाधीन भवन को ग्रीन कवर से ढंका जाए।

-हाट मिक्स प्लांट को परिसर के अंदर ही लगाया जाए।

-शहर में कहीं भी कूड़ा नहीं जलाया जाए।

Edited By: saurabh chakravarti