मऊ, जागरण संवाददाता। सदर विधानसभा के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की रिमांड पेशी शुक्रवार को रिमांड मजिस्ट्रेट संतोष कुमार वर्मा के सामने वीडियो कांफ्रेंसिंग रूम में हुई। न्यायिक मजिस्ट्रेट के सामने स्क्रीन पर विधायक करीब पांच मिनट दिखा। इस दौरान मजिस्ट्रेट ने विधायक का कुशल क्षेम पूछा। उन्होंने जेल में कोई दिक्कत-परेशानी के बाबत सवाल किया। हालांकि विधायक द्वारा उधर से दिया जा रहा जवाब लिंक सही नहीं होने के चलते सही नहीं आ रहा था। इसी दौरान बिजली कट जाने से लिंक फेल हो गया।

विधायक निधि के दुरूपयोग के मामले में सदर विधायक मुख्तार अंसारी बांदा जेल में निरुद्ध हैं। विधायक पर आरोप है कि उन्होंने सरायलखंसी थाना क्षेत्र के सरवां में बैजनाथ यादव महाविद्यालय को नियम विरुद्ध तरीके से विधायक निधि का धन दिया है। इसी मामले की शुक्रवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से विधायक की रिमांड पेशी थी। विधायक के अधिवक्ता दारोगा सिंह ने विधायक को बताया कि गैंगस्टर कोर्ट ने उनकी बैरक में टीवी लगाने का आदेश कर दिया है। अदालत के आदेश जेल प्रशासन को भेज दिया गया है। इस पर विधायक ने अपने अधिवक्ता से कहा कि इसकी सूचना उन्हें है। इस दौरान बिजली कट जाने व जनरेटर से पावर जुड़ने के बाद बांदा जेल से लिंक नहीं हो पाया। न्यायाधीश ने सुनवाई के लिए अगली तिथि 12 अगस्त मुकर्रर की है।

 

Edited By: Saurabh Chakravarty