मऊ [शैलेश अस्थाना]। उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार बनने के पहले ही मऊ में हुई चुनावी रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि यूपी में भाजपा सरकार बनने के बाद गुंडे, अपराधी और माफिया मुस्कुराते हुए जेल नहीं जाएंगे। तब उनका इशारा यहां के लोगों ने सदर विधायक माफिया मुख्तार अंसारी की ओर होने का सहज ही अंदाज लगा लिया था। सरकार बनने के बाद प्रदेश में अपराधियों पर शिकंजा तो कसा गया लेकिन मुख्तार के खिलाफ कार्रवाई न होते देख तमाम चर्चाएं भी होना शुरू हो गई थीं। इसी बीच कानपुर में बिकरू कांड के बाद ऐक्शन में आई योगी सरकार ने ताबड़तोड़ बड़े माफियाओं के विरुद्ध अभियान छेड़ दिया तो मुख्तार गिरोह भी चपेटे में आया। बीते 90 दिनों में मुख्तार अंसारी गिरोह के विरुद्ध मऊ से लखनऊ तक कार्रवाई का जो दौर शुरू हुआ तो गैंग का लगभग 100 करोड़ रुपयों का आर्थिक साम्राज्य तहस-नहस हो गया। इस दौरान पुलिस ने कार्रवाई करते हुए गैंग से जुड़े लोगों की नामी-बेनामी संपत्तियों को जब्त किया, तो अनेक अवैध निर्माण ढहा दिए गए, कई शापिंग मॉल कांपलेक्स, मछली कारोबार, अवैध वसूली गैंग, कोयला व्यवसाय आदि पर नकेल कसते हुए सील कर दिया।

अकेले मऊ में देखा जाय तो मुख्तार अंसारी गैंग से जुड़े आधा दर्जन लोगों की अपराध से अर्जित 21.04 करोड़ संपत्तियों को पुलिस प्रशासन ने जब्त कर लिया तो नगर के पठानटोला में स्थित उसके गुर्गे का लगभग 40 लाख रुपये कीमत का अवैध स्लाटर हाउस बुलडोजर लगाकर ध्वस्त कर दिया और उसकी लाखों की जमीन जब्त कर ली। मुख्तार अंसारी की पत्नी और सालों के नाम रैनी गांव में बने एफसीआइ के गोदाम की चहारदीवारी के कब्जे से 22 लाख रुपये की सरकारी भूमि मुक्त कराई। त्रिदेव कंस्ट्रक्शन के उमेश ङ्क्षसह द्वारा संचालित भीटी का सिटी मॉल लगभग साढ़े छह करोड़ का सिटी मॉल जब्त कर लिया तो उस मॉल से होने वाली लगभग 2.00 करोड़ रुपये की वार्षिक आय से भी गैंग को हाथ धोना पड़ा। मछली माफिया पारसनाथ सोनकर की 8.17 करोड़ की संपत्ति जब्त की तो लगभग 16 लाख रुपये की मछली भी। इसी तरह आजमगढ़ जनपद में मुख्तार के सहयोगी कुंटू ङ्क्षसह की लगभग 9.00 करोड़ की संपत्ति जब्त कर ली गई तो मुबारकपुर थाना क्षेत्र में एसडीएम सदर के नेतृत्व में सिकठी शाह मोहम्मदपुर गांव निवासी असगर शेख व लोहरा गांव निवासी अब्दुल हक के कब्जे से सरकारी भूमि को मुक्त कराया। जौनपुर में मछली माफिया रवींद्र निषाद की 7.5 करोड़ की संपत्ति जब्त कर ली गई। विधायक के गृह जनपद गाजीपुर में पुलिस ने उनके सहयोगियों भीम ङ्क्षसह व राहुल सिंह के कब्जे से अंधऊ एयरपोर्ट की 36.50 करोड़ की सरकारी भूमि मुक्त कराई तो सहयोगियों एवं रिश्तेदारों की कंपनी विकास कंस्ट्रक्शन के कब्जे से फतेउल्लाहपुर में 2.80 करोड़ की भूमि छुड़ाई। गैंग के मेहरुद्दीन उर्फ नन्हें खां द्वारा मंगई नदी पर बनवाए गए अवैध पुल को ध्वस्त कराते हुए 02 मंडा जमीन व बोलेरो सीज करते हुए 53 लाख की संपत्ति जब्त कर ली। उसकी पत्नी के स्वामित्च वाले गजल होटल में अनियमितता पाई गई है, वहां भी जांच अभी चल रही है। इसके अलावा प्रशासन ने प्रदेश की राजधानी लखनऊ में उसके दोनों बेटों के नाम से बने अवैध मकानों को ध्वस्त कर दिया तो अभी उसके भाई सांसद अफजाल अंसारी के मकान की पड़ताल जारी है।

जिले में गुर्गों पर कहर

94 पर गैंगस्टर

26 शस्त्र लाइसेंस निरस्त

21 शस्त्र लाइसेंस निलंबित

12 जिला बदर

अभियान अपराध के साम्राज्य ध्वस्त होने तक जारी रहेगा

अपराध व अपराधियों के विरुद्ध कार्रवाई जारी है। यह अभियान अपराध के साम्राज्य ध्वस्त होने तक जारी रहेगा। माफिया विधायक मुख्तार अंसारी हों या उनके गुर्गे, सहयोगी, रिश्तेदार, शरदणदाता जो भी उनसे संबद्ध व संलिप्त पाए जाएंगे। सबके विरुद्ध कार्रवाई होगी। अभी और लोगों का चिह्नांकन किया जा रहा है।

  -सुशील घुुले, पुलिस अधीक्षक, मऊ।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस