वाराणसी, जागरण संवाददाता। मौसम विभाग की ओर से जारी सैटेलाइट तस्‍वीरों में पूर्वांचल और आसपास बादलों की सक्रियता का रुख बना हुआ है। हालांकि, पूरी तरह से पूर्वांचल में मानसून सक्रिय नहीं हुआ है लेकिन आने वाले दिनों में मानसूनी सक्रियका बढ़ी तो अगले पूरे सप्‍ताह भर तक बादलों की आवाजाही का रुख बना रहना तय है। इसी के साथ आने वाले दिनों में बादलों की आवाजाही बनी रहनी तय है। इसकी वजह से तापमान में भी कमी आएगी और बूंदाबांदी से मौसम का रुख भी सामान्‍य हो जाएगा। मौसम विभाग ने मानसून भी जल्‍द ही असर करने की संभावना जताई है।  

बीते चौबीस घंटों में अधिकतम तापमान 36.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्‍य से एक डिग्री कम रहा। न्‍यूनतम तापमान 25.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्‍य से दो डिग्री कम रहा। आर्द्रता अधिकतम 77 फीसद और न्‍यूनतम 56 फीसद दर्ज की गई। मौसम विभाग की ओर से जारी सैटेलाइट तस्‍वीरों के अनुसार पूर्वांचल और आसपास बादलों की सक्रियता का रुख बना हुआ है। जबकि मानसूनी सक्रियता का दौर भी अभी सोनभद्र के इर्द गिर्द होने की वजह से स्‍थाई राहत का दौर दूर है। माना जा रहा है कि 27 जून तक मानसून पूर्वांचल में और आगे का रुख करेगा।

वातावरण में नमी का स्‍तर भी आने वाले दिनों में बढ़ना तय है, हालांकि सप्‍ताह भर से नमी का स्‍तर वातावरण में बढ़ा हुआ है। इसकी वजह से उमस में भी इजाफा हुआ है। जल्‍द ही वातावरण में नमी की बढ़ी मात्रा उमस के साथ ही बादल और बूंदाबांदी भी कराएगा। इसके साथ ही मौसम विभाग ने पूरे सप्‍ताह बादलों की आवाजाही के संकेत देकर मौसमी बदलाव का अनुमान जाहिर किया है। माना जा रहा है कि उमस भी बारिश के साथ कम होती जाएगी। मध्‍य जुलाई के बाद तापमान में भी कमी आने लगेगी और मध्‍य अगस्‍त के बाद रातें सर्द होने लगेंगी।

Edited By: Abhishek Sharma