आजमगढ़, जेएनएन। जिले में सरकारी अनाज की कालाबाजारी का मामला नया नहीं है। लेकिन, व्‍यवस्‍था पर यह बड़ा सवाल भी है। एक व्यापारी के गोदाम पर खड़े ट्रैक्टर ट्राली में कालाबाजारी का अनाज पकड़ में आने के बाद मामले को रफा- दफा करने की कोशिश में नेता जुटे रहे। सरकारी अनाज पकड़े जाने की वजह से कालाबाजारी करने वाले माफ‍िया में भी हड़कंप की स्थिति रही। जबकि उनके संरक्षकों की शिफारिस भी खूब चलती रही। 

जिले में सरकारी खाद्यान्न की कालाबाजारी की चर्चा तो हमेशा होती रहती है, लेकिन शनिवार की रात 9.30 बजे जनता के सहयोग से उजागर भी हो गई। सरदहा बाजार में एक व्यापारी के गोदाम पर ट्रैक्टर ट्राली से उतारे जा रहे सरकारी खाद्यान्न को जनता की सूचना पर पुलिस ने बरामद कर लिया। ट्राली पर लदे 120 बोरी चावल के साथ व्यापारी किशन गुप्ता व ट्रैक्टर चालक संत विजय नायक को थाने ले आई। मामला सार्वजनिक वितरण प्रणाली से जुड़ा होने के कारण इसकी सूचना आपूर्ति निरीक्षक को दी गई है। खाद्यान्न पकड़े जाने से जहां गल्ला माफियाओं में हड़कंप मच गया, वहीं सत्ता पक्ष के कुछ स्थानीय नेतागण मामले को रफा- दफा करने के प्रयास में जुटे रहे।

थाना प्रभारी गजानंद चौबे ने बताया कि रात में ट्राली पर लदा सरकारी चावल सरदहा बाजार स्थित एक व्यापारी के गोदाम में उतारा जा रहा था। इसकी सूचना स्थानीय लोगों से मिली तो मौके पर पहुंचकर कार्रवाई की गई।मामला खाद्य एवं रसद विभाग से जुड़ा होने के कारण सूचना आपूर्ति निरीक्षक को दी गई है। उनके द्वारा जांच करके जो तहरीर दी जाएगी उसके अनुसार मुकदमा पंजीकृत कर कार्रवाई की जाएगी। आपूर्ति निरीक्षक दुर्गानन्द यादव ने कहा कि प्रकरण मेरे संज्ञान में आया है। विपणन गोदाम पर पहुंचकर शनिवार को हुई निकासी का विवरण प्राप्त कर जांच में जुटा हूं। उसके बाद जो भी दोषी पाया जाएगा उसके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Abhishek Sharma