जागरण संवाददाता, वाराणसी : भारतीय संस्कृति के उन्नयन को लेकर सदा से आग्रही रहा आपका अपना अखबार दैनिक जागरण श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण उत्सव में 13 दिसंबर को लघु भारत की झांकी सजाएगा। नगर की हृदय स्थली गोदौलिया से लेकर बाबा दरबार तक दपदप करती दीपमाला सजेगी। नाद स्वरम्, शंख और उलू ध्वनि के बीच वेद मंत्र गूंजेंगे, डमरुओं की थाप श्रद्धा-भक्ति के रंगों को चटख करेगी। उत्तर-दक्षिण को एकाकार करती वाद्य यंत्रों की ध्वनि, नृत्य- संगीत और झांकियां उत्साह व उल्लास को सतरंगी करेंगी। इसमें अपनी सांस्कृतिक विविधता को सहेजे विभिन्न प्रांतों की भागीदारी एक ही जगह पर समूचे भारत की महमह करती फुलवारी का अहसास कराएगी।

श्रीकाशी विश्वनाथ को समर्पित आयोजन की तैयारियों के संबंध में बुधवार की शाम दैनिक जागरण दफ्तर सभागार में बैठक की गई। इसमें विभिन्न प्रांतों के प्रतिनिधियों ने अपनी प्रस्तुतियों की रूपरेखा प्रस्तुत की। तय किया गया कि शाम पांच बजे से सात बजे तक लघु भारत की झांकी प्रस्तुत की जाएगी। इसमें काशी में रह रहे विभिन्न प्रांतों के कलाकारों व परिवारों की ओर से अपनी पारंपरिक वेशभूषा में दीप माला सजाएंगे। दक्षिण भारतीय समाज की ओर से नाद स्वरम् प्रस्तुत किया जाएगा। बंगीय समाज ढाक की थाप के बीच उलू व शंख ध्वनि, मिथिला की छिछिया नजर आएगी तो तिब्बती समाज की पारंपरिक वाद्य यंत्र प्रस्तुति हृदय में उतर जाएगी। इसके साथ ही बौद्ध, सिख, जैन धर्म के महापुरुषों की झांकी भी सजेगी। राजस्थान का कालबेलिया, महाराष्ट्र का लावणी, पंजाब का भांगड़ा-गिद्दा तो गुजरात का गरबा- डांडिया झूमने को विवश कर जाएगा।

इंडो-श्रीलंकन इंटरनेशनल बुद्धिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष डा. के सिरी सुमेध थेरो, धम्म शिक्षण केंद्र सारनाथ के अध्यक्ष भिक्खु चंदिमा, भंते ज्ञान रखित, कांची कामकोटि मठ काशी के प्रतिनिधि वीएस सुब्रह्मïण्य मणि, आंध्रा आश्रम के वीवी सुंदर शास्त्री, मैथिल समाज के प्रदेश अध्यक्ष निरसन झा, डा. विजय कपूर, गौतम झा, जैन समाज के सुरेन्द्र कुमार जैन, बंगीय समाज के चंद्रनाथ मुखर्जी, तनुश्री मुखर्जी, सरवानी धारा, सोमेन दत्ता, माहेश्वरी समाज से गौरव राठी, लाटभैरव डमरू दल के मंदीप सोनकर व दीपक शर्मा, सैैंड आर्टिस्ट रुपेश सिंह, समाजसेवी निर्मल उपाध्याय व सचिन कुमार राय, संयोजक व सुबह-ए- बनारस के वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रमोद कुमार मिश्र, सहसंयोजक गीतकार कन्हैया दुबे केडी आदि ने विचार व्यक्त किए। धन्यवाद ज्ञापन दैनिक जागरण के समाचार संपादक भारतीय बसंत कुमार ने किया।

Edited By: Saurabh Chakravarty