Move to Jagran APP

Sawan 2024: सुबह-शाम चार से पांच बजे तक काशीवासी करेंगे बाबा विश्‍वनाथ के दर्शन, अगले सप्ताह से लागू होगी व्यवस्था

Sawan 2024 इस साल सावन 22 जुलाई को शुरू होकर 19 अगस्त को समाप्त होगा। इस महीने में अद्भुत संयोग बन रहा है। माह का आरंभ सोमवार से हो रहा है और सावन का अंतिम दिन भी सोमवार को पड़ रहा है। इस बार महीने में पांच सोमवार पड़ रहे हैं। बता दें कि 22 जुलाई से सावन शुरू हो रहा है और 19 अगस्‍त को समाप्‍त हो रहा है।

By Ashok Singh Edited By: Vivek Shukla Wed, 10 Jul 2024 04:00 PM (IST)
विशेष द्वार से काशीवासियों को मिलेगा बाबा के दर्शन। जागरण

जागरण संवाददाता, वाराणसी। श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर में काशीवासियों के लिए विशेष मार्ग की ओर मंगलवार को कदम बढ़ गए। यह गेट नंबर चार के पास नंदू फारिया मार्ग से होगा। मंदिर प्रशासन ने इसे काशी द्वार नाम दिया है। इसे सुबह-शाम चार से पांच बजे तक काशीवासियों के लिए खोला जाएगा।

इसकी शुरूआत अभी ट्रायल के रूप में नेमी दर्शनार्थियों से होगी। व्यवस्था सुदृढ़ व व्यवस्थित होने पर अगले सप्ताह से आम काशीवासियों को बाबा तक जाने के लिए अपना काशी द्वार मिल जाएगा।

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम में स्थानीयजनों को दर्शन पूजन को लेकर हो रही परेशानी को दैनिक जागरण लगातार उठाता रहा है। इसके तहत ही काशीवासियों के लिए अलग द्वार की मांग को उठाया था। इस पर मंदिर प्रशासन ने विचार का भरोसा भी दिया था।

इसे भी पढ़ें-ससुराल के लोगों ने उड़ाया मजाक, दूल्‍हे ने बुलडोजर पर बैठकर निकाली बारात

सावन की तैयारी को लेकर मंगलवार को आयोजित बैठक में मंडलायुक्त कौशल राज शर्मा व पुलिस कमिश्नर मोहित अग्रवाल की अध्यक्षता में इसके प्रस्ताव पर विचार-विमर्श किया गया। तय किया गया कि काशीवासी आधार कार्ड या वाराणसी के पते का कोई भी फोटोयुक्त पहचान पत्र दिखाकर निर्धारित समय में काशी द्वार से दर्शन के लिए जा सकेंगे।

पहले यह समय सुबह-शाम एक-एक घंटे होगा। आवश्यकता व सुविधानुसार इसे बाद में बढ़ाया जाएगा। मंदिर प्रशासन ने पीपीटी के माध्यम से व्यवस्था को सभी के सामने रखा।

सावन भर कई स्थानों से कर सकेंगे बाबा का लाइव दर्शन

बाबा को प्रिय मास सावन 22 जुलाई को शुरू हो रहा है जो 19 अगस्त तक रहेगा। इसमें पांच सोमवार पड़ रहे हैं। श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शनार्थियों की भारी भीड़ को देखते हुए प्रशासन ने व्यवस्था को विस्तार दिया है। इसमें कई स्थानों पर लाइव दर्शन के लिए एलईडी स्क्रीन लगाई जाएगी।

बहुभाषी खोया-पाया केंद्र के साथ ही वृद्ध-अशक्त, दिव्यांग व अति विशिष्टजन के लिए मुफ्त ई-रिक्शा का संचालन किया जाएगा। संपूर्ण धाम क्षेत्र को सीसीटीवी कैमरे से लैस करते हुए कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। कमिश्नर ने सड़क पर भीड़ को कम करते हुए अंदर जिग-जैग बैरिकेडिंग व शेड लगाने का निर्देश दिया।

इसे भी पढ़ें-गाजीपुर तिहरा हत्याकांड का खुलासा: पहले मां, फिर पिता और अंत में भाई का काटा गला, घर का 'लाडला' इश्‍क में बना हैवान

कहा, घाट पर लगी फ्लड लाइट को और बढ़ाया जाए। उन्होंने उचित प्रबंध करने के लिए परिक्षेत्र के दुकानदारों के साथ भी बैठक करने हेतु निर्देशित किया। स्वास्थ्य विभाग को पूरे परिक्षेत्र में डाक्टरों की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश दिया।

कहा, पेयजल, शौचालय समेत समुचित व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। बैठक में जिलाधिकारी एस राजलिंगम, अपर पुलिस आयुक्त वाराणसी कमिश्नरेट एस चिनप्पा, मुख्य कार्यपालक अधिकारी विश्व भूषण मिश्रा समेत अन्य विभागीय अधिकारी शामिल रहे।

धक्का-मुक्की करने वाले नेमियों का कार्ड होगा निरस्त

बैठक के दौरान बताया गया कि नेमी दर्शनार्थियों में कुछ दर्शनार्थी अक्सर शिकायत करते हैं कि कुछ स्थानीय नेमी दर्शन के दौरान धक्का-मुक्की करते हैं। इससे कभी-कभी बुजुर्ग नेमी घायल हो जाते हैं। इसे गंभीरता से लेते हुए श्री काशी विश्वनाथ धाम प्रशासन ने गंभीरता से लिया है।

अनुशासन बनाए रखने के लिए ऐसे लोगों को चिन्हित कर नोटिस जारी किया जाएगा। यदि उनमें कोई सुधार नहीं हुआ तो उन्हें काशीवासियों के लिए अलग द्वार से दर्शन की सुविधा से वंचित कर दिया जाएगा।