वाराणसी, जेएनएन। एलबीएस इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर आने और जाने वाले यात्रियों की सुविधाओं को देखते हुए एयरपोर्ट प्रशासन ने नया कदम उठाया है। एयरपोर्ट प्रशासन ने गोल्फ कार्ट सेवा का शुभारंभ किया जिससे यात्रियों को एयरपोर्ट के एप्रन से टर्मिनल भवन के बीच पैदल नहीं चलना पड़ेगा। इस सुविधा का लाभ अभी महिलाओं, बच्चों तथा बुजुर्गों को दी जाएगी लेकिन बाद में सभी यात्रियों को इसका लाभ मिलेगा।

मालूम हो वाराणसी एयरपोर्ट के एप्रन पर कुल बारह वे (स्टैंड) हैं जहां विमान खड़े किए जाते हैं। वहीं दो एयरोब्रिज हैं जहां विमान खड़ा होने के बाद यात्री विमान से उतरने के बाद सीधे टर्मिनल भवन में प्रवेश कर जाते हैं। एक एयरोब्रिज पर एक समय में एक ही विमान खड़ा किया जा सकता है। अन्य विमान पुराने टर्मिनल भवन की तरफ ही एप्रन साइड में खड़े किए जाते हैं। ऐसे में पुराने टर्मिनल भवन के पीछे से न्यू टर्मिनल भवन की एप्रन से दूरी लगभग 200 मीटर से अधिक है और विमान से उतरने के बाद उतनी दूर तक यात्री पैदल ही आते थे। तेज धूप और बरसात के समय महिलाओं बच्चों तथा वृद्ध यात्रियों को समस्याओं का सामना करना पड़ता था। इसी को देखते हुए एयरपोर्ट प्रशासन ने नया कदम उठाया है जिससे यात्रियों को काफी राहत मिलेगी।

बैटरी चलित वाहन पूरी तरह है प्रदूषण मुक्त

मालूम हो की वाराणसी एयरपोर्ट को प्रदूषण मुक्त रखने का कार्य पिछले वर्षों से ही चल रहा है। इसी को ध्यान में रखते हुए एयरपोर्ट प्रशासन द्वारा पिछले वर्ष अप्रैल माह में दो गोल्फ कार्ट लिए गए थे। दोनों वाहन बैटरी से चलते हैं और प्रदूषण मुक्त हैं। पहले तो दोनों वाहनों का उपयोग वीआइपी मूवमेंट व ऑथरिटी के अधिकारियों द्वारा ही किया जाता था लेकिन अब इसे यात्रियों के लिए भी शुरू कर दिया गया। पिछले दो दिनों तक ट्रायल करने के बाद गुरुवार को एयरपोर्ट निदेशक आकाशदीप माथुर और सीआइएसएफ के कमांडेंट सुब्रत झा ने इस सेवा का शुभारंभ किया।

अब शटल बस सेवा शुरू करने की तैयारी

एयरपोर्ट पर गोल्फ कार्ट सेवा का शुभारंभ किया गया है, जो पूरी तरह निश्‍शुल्क है। शटल बस सेवा भी शुरू करने की तैयारी चल रही है। विमानन कंपनियों से बात की जा चुकी है उसे भी जल्द ही शुरू किया जाएगा।

-आकाशदीप माथुर, निदेशक एयरपोर्ट।

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस