वाराणसी, जेएनएन। रायबरेली-अमेठी के रास्ते वाराणसी कैंट स्टेशन तक विद्युत इंजन से ट्रेनें दौड़ाने की उल्टी गिनती शुरू हो गई है। रेल की इस योजना को सीआरएस की हरी झंडी नहीं मिली है। रेलखंड पर विद्युतीकरण कार्य कर रही आरवीएनएल ने रेल लाइन पर निरीक्षण कर लिया गया है। निरीक्षण के दौरान वैगन कार से पैंट्री कार को जोड़कर विद्युत चार्ज की समीक्षा की गई। अब रेल विकास निगम इस रेल खंड पर विद्युत इंजन को 110 किलोमीटर प्रति घंटे की दर से दौड़ाकर परीक्षण करेगा।

रेलवे बोर्ड से मिली जानकारी के मुताबिक जल्द ही रूट पर सीआरएस निरीक्षण कर लिया जाएगा। आरंभिक चरण में रेल विभाग 15 जोड़ी ट्रेनों में विद्युत इंजन लगाकर संचालन करेगा। इनमें आनंद विहार गरीब रथ एक्सप्रेस प्रमुख है। जंघई से गौरीगंज तक सीआरएस क्लीरियेंस पूर्व में ही मिल चुका है। अब इस साल रेल को श्रीराजनगर से उतरेटिया के बीच विद्युतीकरण की हरी झंडी मिलते ही लखनऊ से वाराणसी के बीच इलेक्ट्रिक इंजन से रेल परिचालन शुरू हो जाएगा।

 इन रेल गाडिय़ों में विद्युत इंजन लगाने की है योजना

14259-60 एकात्मकता एक्सप्रेस

22407-08 वाराणसी आनंद विहार गरीब रथ

14203-04 वाराणसी-लखनऊ इंटरसिटी एक्सप्रेस

13005-06 पंजाब मेल

54255-56 लखनऊ-वाराणसी पैसेंजर

12355-56 अर्चना एक्सप्रेस

14219-20 वाराणसी इंटरसिटी एक्सप्रेस

12875-76 नीलांचल एक्सप्रेस

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Vandana Singh