जागरण संवाददाता, भदोही : एक्सपो मार्ट भदोही में पहली बार 15 अक्टूबर से शुरू हाे रहा अंतरराष्ट्रीय कालीन मेला व्यापार के लिहाज से उद्योग को मजबूती देगा। अमूमन अन्य स्थानों पर लगे मेले में अब तक तीन सौ करोड़ का ही व्यापार होता था लेकिन इस बार पांच सौ करोड़ से ज्यादा का कालीन कारोबार होने की उम्मीद है। क्योंकि 60 से अधिक देशों के 300 आयातकों ने मेले में आने को अपना पंजीकरण करा लिया। इसमें अमेरिका के सबसे ज्यादा 40 आयातक हैं।

आस्ट्रेलिया के 27, यूके के दस, रसिया के 27 आयातकों समेत तीन सौ का पंजीकरण होने से कालीन निर्यात संवर्धन परिषद (सीईपीसी) उत्साहित है। अभी यह संख्या और बढ़ेगी। इससे मेले को भव्य रूप देने के लिए तैयारी शुरू हो गई है। यह माना जा रहा कि अब तक के मेलों की अपेक्षा यह कारपेट मेला देश का सबसे बड़ा मेला होगा।

इस बार अफगानिस्तान, बंगलादेश, बेल्जियम, ब्राजील, इजिप्ट, कनाड़ा, बुलगारिया, फिनलैंड, ग्रीस, इरान, हंगरी आदि देशों के व्यापारी यहां आएंगे। वैसे जिन देशों से कालीन का कारोबार चल रहा है उनकी भागीदारी ज्यादा हो रही है। कालीन के खरीदार देशों में अमेरिका का शीर्ष स्थान है। यहां अन्य देशों की अपेक्षा 40 फीसद व्यापार होता है। जर्मन, फ्रांस, आस्ट्रेलिया, इटली आदि देश भी भारतीय कालीनों के शौकीन हैं। इससे यहां अच्छा खासा व्यापार होता है।

अब तक एक्सपो मार्ट में 225 स्टाल बुक हो चुके हैं

कालीन मेला को लेकर उद्यमियों में उत्साह है। इस बार अन्य मेलों की अपेक्षा ज्यादा कारोबार की उम्मीद है। क्योंकि मेले में आयातकों की अच्छी खासी संख्या यहां पहुंचेगी। अब तक एक्सपो मार्ट में 225 स्टाल बुक हो चुके हैं।

असलम महबूब, सदस्य, प्रशासनिक समिति सीईपीसी

Edited By: Saurabh Chakravarty