जागरण संवाददाता, वाराणसी : श्रीकाशी विश्वनाथ धाम में बाबा का दर्शन-पूजन भक्तगण पहले भी करते आए हैं, लेकिन स्वरूप नव्य-भव्य होने के बाद अब यह पूरी तरह श्रद्धालुओं को समर्पित होने जा रहा है। अब इसमें शादी-विवाह, यज्ञ हवन समेत मांगलिक अनुष्ठान किए जा सकेंगे। इसके लिए श्रीकाशी विश्वनाथ विशिष्ट क्षेत्र विकास परिषद इवेंट मैनेजमेंट कंपनियों को सूचीबद्ध (इम्पैनल) करेगा। टेंट, भजन-कीर्तन, भोज-भंडारा समेत अलग-अलग कार्यों के लिए रेट तय किए जाएंगे। इन संस्थाओं में से ही किसी एक को आयोजन के लिए बुक किया जा सकेगा।

विशिष्ट क्षेत्र विकास परिषद की बैठक में इस पर मुहर लगाई जा चुकी है। वास्तव में परिसर में दो मल्टी परपज हाल बनाए गए हैं। इन्हें परिषद की ओर से शादी-विवाह समेत मांगलिक आयोजनों के लिए देने का पहले ही निर्णय लिया जा चुका है। इसके अलावा वैदिक केंद्र में यज्ञ-हवन व अन्नपूर्णा भवन में भोग-भंडारा के लिए अनुमति दी जा चुकी है। मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनील कुमार वर्मा ने बताया कि उद्देश्य यह है कि किसी आयोजन के दौरान सुरक्षा जांच आदि को लेकर अधिक समय न गंवाना पड़े। इससे बार-बार परमिशन की औपचारिकता से भी बचा जा सकेगा। साथ ही गुणवत्तापूर्ण सुविधा देने के लिए दक्ष कंपनी भी उपलब्ध कराई जा सके।

चार भवनों के संचालन को निविदा की शासन से हरी झंडी

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम परिसर के चार भवनों के संचालन के लिए कंपनी या संस्था चयन के लिए शासन नेे अनुमोदन कर दिया है। अब इनके लिए निविदा प्रक्रिया जल्द ही शुरू की जाएगी ताकि सावन से पहले इनका संचालन किया जा सके। इसमें इम्पोरियम, मुमुक्षु भवन, कैफेटेरिया के साथ ही बैंकिंग शामिल है। बनारस गैलरी के लिए संचालन के लिए शासन को प्रस्ताव भेज दिया गया है।

सावन में होगी अपनी सेक्यूरिटी एजेंसी और सफाई व्यवस्था

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम का दायरा बढ़ने के बाद पहली बार निजी सुरक्षा एजेंसी कार्य संभाले दिखेगी। सफाई व्यवस्था भी निजी एजेंसी के हाथ होगी। इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। प्रयास किया जा रहा है कि सावन में जब भी श्रद्धालुओं का रेला उमड़े तो उन्हें सफाई व सुरक्षा व्यवस्था भरपूर मिले।

एक्सक्लूसिव शो रूम में मिलेंगे बाबा के जुड़े सामान

रुद्राक्ष, प्रसाद, दुपट्टा समेत बाबा से जुड़े सामान अब एक्सक्लूसिव शोरूम में मिलेंगे। यह व्यवस्था श्रीकाशी विश्वनाथ धाम परिसर में की जा रही है। बोर्ड की ओर से इस दिशा में कार्य शुरू कर दिया गया है।

Edited By: Saurabh Chakravarty