वाराणसी : संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय का 35वां दीक्षांत समारोह अब 16 दिसंबर को होगा। समारोह के मुख्य अतिथि पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी होंगे। अध्यक्षता सूबे के राज्यपाल/कुलाधिपति राम नाईक करेंगे।

दीक्षांत समारोह पहले 27 अक्टूबर निर्धारित था। आंदोलन के चलते विश्वविद्यालय प्रशासन ने दीक्षांत समारोह स्थगित कर दिया। दीक्षांत समारोह स्थगित किए जाने पर कुलाधिपति ने नाराजगी भी जताई थी। साथ ही उन्होंने कुलपति से यथाशीघ्र समारोह की प्रस्तावित तीन तिथि भेजने को कहा था। इस क्रम में कुलपति प्रो. यदुनाथ दुबे ने सात, 11 व 16 दिसंबर को दीक्षांत समारोह की प्रस्तावित तिथि भेजी भी। राजभवन ने 16 दिसंबर को दीक्षांत समारोह कराने की हरी झंडी दे दी। राजभवन से अनुमति मिलते ही समारोह की तैयारी तेज कर दी गई है। इस क्रम में सोमवार जितेंद्र कुमार के संयोजकत्व में कार्यक्रम समन्वय समिति, प्रो. हरि प्रसाद अधिकारी के संयोजकत्व में स्नातक नामावली व चिकित्सा व्यवस्था समिति, प्रो. व्यास मिश्र के संयोजकत्व नियंत्रण पत्र वितरण समिति गठित की गई है।

कार्यपरिषद नामित करेगा सदस्य

कुलपति प्रो. यदुनाथ दुबे का तीन वर्ष का कार्यकाल दो फरवरी 2018 को समाप्त हो रहा है। ऐसे नए कुलपति की नियुक्ति के लिए गठित होने वाले सर्च कमेटी में नाम का चयन करने के लिए इसी माह में 19 नवंबर तक कार्यपरिषद बुलाने का निर्णय लिया गया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप