Move to Jagran APP

मीरजापुर में गंगा में नहाते समय भदोही का युवक डूबा, अक्षय तृतीया पर रिश्तेदारों के साथ आया था विंध्याचल

मीरजापुर में गंगा में नहाते समय भदोही का युवक नहाते समय डूब गया। अक्षय तृतीया पर वह रिश्तेदारों के साथ विंध्याचल दर्शन और पूजन के लिए आया था। यहीं पर दो दिन पूर्व भी हादसे में दो लोगों की डूबने से मौत हो चुकी है।

By Abhishek SharmaEdited By: Published: Tue, 03 May 2022 12:26 PM (IST)Updated: Tue, 03 May 2022 12:26 PM (IST)
मीरजापुर में गंगा में नहाते समय भदोही का युवक डूबा, अक्षय तृतीया पर रिश्तेदारों के साथ आया था विंध्याचल
विंध्‍याचल में गंगा नदी में डूबने से एक युवक की मौत हो गई।

मीरजापुर, जागरण संवाददाता। विंध्याचल थाना क्षेत्र के दीवानघाट पर मंगलवार की सुबह स्नान करते समय गहरे पानी में चले जाने से 20 वर्षीय राहुल यादव उर्फ गोलू पुत्र पंचलाल यादव की मौत हो गई। वह भदोही जनपद के ज्ञानपुर कोतवाली के डबका का रहने वाला था। साथ में नहा रहे रिश्तेदारों के शाेर पर लोगों ने उसे बचाने का प्रयास किया लेकिन निराशा हाथ लगी। मौके पर पहुुंची पुलिस ने स्थानीय गोताखोरों की मदद से थोड़ी देर बाद युवक के शव को बरामद किया और पोस्टमार्टम के लिए भेजा।

loksabha election banner

राहुल भदोही के खेतासराय स्थित अपने ननिहाल के दस रिश्तेदारों के साथ अक्षय तृतीय के अवसर पर मां विंध्यवािसनी का दर्शन-पूजन करने के लिए मंगलवार को विंध्याचल आया था। मां का दर्शन करने से पहले वह रिश्तेदारों के साथ दीवानघाट पर गंगा स्नान करने चला गया। सभी लाेग घाट पर लगे बैरिकेडिंग के अंदर नहा रहे थे कि जबकि राहुल उससे बाहर जाकर नहाने लगा। इसी दौरान गहरे पानी में चला गया और डूबने लगा। यह देख पास में स्नान कर रहे अन्य रिश्तेदारों ने शोर मचाया तो लोग उसे बचाने के लिए पानी में उतर गए। जब तक सभी उसके पास पहुंचते, तब तक वह पानी में अंदर समा गया। युवक के डूबते ही रिश्तेदार दहाड़े मारकर रोने लगे।

दो दिन पहले ही परशुराम घाट पर डूब गए थे भाई-बहन : विंध्याचल के परशुराम घाट पर स्नान के दौरान दो दिन पहले ही भाई ऋषि व बहन खुशी तिवारी निवासी जौनपुर कोहड़ा की डूबकर मौत हो गई थी, जबकि उसके परिवार के चार सदस्यों को बचा लिया गया था, बावजूद इसके प्रशासन सतर्क नहीं हुआ। सभी लोगों ने भी बताया था कि अक्षय तृतीया पर विंध्याचल में भीड़ बढ़ती है, फिर भी प्रशासन की ओर से सतर्कता नहीं बरती गई, न ही वहां पर किसी गोताखोरों को तैनात किया गया। इसके अलावा लोगों को जागरूक करने के लिए भी प्रयास नहीं किया गया। प्रशासन की लापरवाही के चलते ही गंगा घाटों पर लगातार डूबने की घटनाएं हो रही हैं।

बैरिकेडिंग से आगे बढ़कर न नहाए, हो सकता है जानलेवा : दीवानघाट, पक्काघाट व अखाड़ा घाट पर बैरिकेडिंग की गई है, लेकिन दर्शनार्थी यहां नहाने की बजाय बैरिकेडिंग से हटकर नहा रहे है। ऐसे में वहां पर गहराई अधिक होने के कारण डूब जा रहे है। ऐसे में नहाते समय कोई भी श्रद्धालु बैरिकेडिंग से बाहर न नहाएं। बैरिकेडिंग के अंदर ही नहाएं, खासकर बच्चों का ध्यान रखें।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.