वाराणसी, जेएनएन। स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 की रैंकिंग में स्थान बनाने के लिए इस बार नगर निगम के कर्मचारियों ने फीडबैक लेने में कई नगर निगमों को पछाड़ दिया है। आठ दिन पहले तक नगर निगम केवल प्रयागराज से आगे चल रहा था। शुक्रवार को अंतिम दिन गोरखपुर, मुरादाबाद और मेरठ को पछाड़ दिया है। अब नगर निगम फीडबैक लेने में लखनऊ, आगरा और कानपुर के बाद दिख रहा है।

22 जनवरी को नगर निगम जहां केवल 8948 लोगों से फीडबैक लिया था वहीं 31 जनवरी को 218785 लोगों ने स्वच्छता का फीडबैक दिया। गौरतलब है कि नगर आयुक्त ने 90 वार्डों में स्वच्छता सर्वे के लिए इतने ही नोडल अधिकारियों को तैनात किया था। जिन्हें लोगों से स्वच्छता फीडबैक लेना था। उधर, गंगा किनारे के 14 वार्डों में स्वच्छता का सर्वे करने आई दो सदस्यीय टीम शुक्रवार को दिल्ली वापस हो गई। टीम ने गंगा घाट और उसके आसपास के वार्डों के मोहल्लों में लोगों ने कूड़ा उठान और डस्टबीन के रखरखाव के बारे में जानकारी ली।

पिछली बार अंतिम स्थान पर था बनारस

वर्ष 2019 के स्वच्छता सर्वेक्षण में गंगा किनारे के 24 शहरों में नगर निगम सबसे अंतिम स्थान पर था। नगर आयुक्त गौरांग राठी ने बताया कि इस बार कोशिश है कि पहले स्थान पर गंगा किनारे के शहरों में नगर निगम हो।

31 जनवरी तक नगर निगमों को मिले फीडबैक

नगर निगम       फीडबैक

बनारस          218785

प्रयागराज          5116

आगरा          1110484

गोरखपुर          41039

कानपुर          452533

लखनऊ       1234706

मुरादाबाद        19395

मेरठ               20393

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस