आजमगढ़, जागरण संवाददाता। यूपी के टापटेन माफिया ध्रुव कुमार सिंह उर्फ कुंटू की पत्नी वंदना सिंह की तलाश में शुक्रवार की देर शाम पुलिस ने उनके जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के छपरा सुलतानपुर स्थित मकान पर छापा मारा। पुलिस की छापामारी से पहले ही वंदना सिंह फरार हो गईं। माफिया के ऊपर पूर्व में ही गिरजा सिंह स्मृति महाविद्यालय की बिल्डिंग में विद्यावती होम्योपैथिक फार्मेसी कालेज का कागज में संचालन किया जा रहा था। प्रशासन ने जांच कराई तो पता चला कि वर्ष 2016 में खर्रारस्तीपुर में कूटरचित तरीके से होम्योपैथिक फार्मेसी कालेज की मान्यता ली गई थी। उसके बाद कुंटू सिंह, शिव प्रकाश यादव, बालकरन यादव, राजेंद्र यादव, शिवेश सिंह, मनोज सिंह,अभिषेक सिंह, रामकरन सिंह व पूर्व ब्लाक प्रमुख वंदना सिंह के खिलाफ विभिन्न धाराआें के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया था।

इस मामले में आरोपित वंदना की गिरफ्तारी के लिए विवेचक मेंहनगर थाना प्रभारी निरीक्षक सुनील चंद तिवारी के नेतृत्व में पुलिस टीम ने शाम को छपरा सुल्तानपुर में दबिश दी, किंतु वह नहीं मिलीं। बता दें कि फरार चल रहे आरोपितों पर पुलिस ने 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया है।

माफिया अखंड सिंह की 1.81 करोड़ की संपति कुर्क

बरेली जेल में निरुद्ध माफिया अखंड सिंह की 1 करोड़ 81 लाख 97 हजार रुपये की संपति को पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने शुक्रवार की शाम को कुर्क कर लिया। हालांकि यह आदेश कलेक्टर राजेश कुमार ने एक पखवाड़ा पूर्व ही कर दिया था। पुलिस ने कार्रवाई को जमीन पर उतारी तो माफियाओं में एक बार फिर से हड़कंप मच गया। तरवां थाना क्षेत्र के जमुवां गांव निवासी अखंड प्रताप सिंह बीते माह लखनऊ में मऊ जिले के मोहम्मदाबाद गोहना के पूर्व ज्येष्ठ प्रमुख अजीत सिंह की हुई हत्या के बाद सुर्खियों में आया था। हालांकि वाराणसी के ट्रांसपोर्टर की हत्या मामले में नाम सामने आने पर भी इसकी दहशत लोगों में बढ़ी थी। ट्रांसपोर्टर की हत्या में ही अखंड सलाखों के पीछे पहुंचा तो अभी तक बाहर नहीं आ पाया है। जिलाधिकारी राजेश कुमार ने गैंगस्टर एक्ट के मुकदमे में अखंड प्रताप सिंह की जरायम से कमाई अवैध संपत्ति को कुर्क करने का आदेश दिया था। जिलाधिकारी के आदेश पर शुक्रवार की शाम को मेंहनगर तहसीलदार सर्वेश कुमार सिंह गौर व तरवां थाना के प्रभारी इंस्पेक्टर स्वतंत्र कुमार सिंह ने पुलिस फोर्स व राजस्व कर्मियों के साथ जमुआ गांव पहुंचे ।

 

Edited By: Saurabh Chakravarty