वाराणसी, जेएनएन। घड़ी की सुइयों ने जैसे ही सुबह के साढ़े दस बजे पूर्वांचल के सभी जनपदों में शहर से लेकर देहात तक और घर से लेकर दुकानों तक हर जगह लोग टीवी से चिपक गए। जहां टीवी की व्‍यवस्‍था नहीं थी वहां लोग लगातार मोबाइल पर नजर गढ़ाए रहे। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट से आए फैसले का सभी की ओर से स्‍वागत किया जा रहा है। हर तरफ शांति के साथ ही भाईचारे और सौहार्दपूर्ण का वातावरण देखने को मिल रहा है। शांति व्‍यवस्‍था कायम रखने के लिए जगह-जगह पर जिलाधिकारी व पुलिस के वरिष्‍ठ अधिकारी दल-बल केसाथ मार्च निकाल रहे हैं। सभी लोग सौहार्द के साथ्‍ा एक दूसरे से गले भी मिलते दिखाई दे रहे हैं।

शनिवार की सुबह यूं तो अन्‍य दिनों की भांति ही हुई थी लेकिन हवाओं में एक उत्‍साह के साथ बैचेनी भी थी। अयोध्‍या मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला साढ़ेे दस बजे से आना था। स्‍कूल कॉलेजों की एहतियातन छुटटी थी। माह का दूसरा शनिवार भी था। कई परिवार अवकाश का आनंद ले सकते थे लेकिन अल सुबह घर के काम निपटाकर लोग दस बजे से टीवी के आगे बैठ गए। लोगों की लग रहा था कि पांच सौ साल पुराने विवाद के फैसले को कोर्ट सुनाने में कुछ घंटों का तो समय लेगा ही लेकिन लोगों की उम्‍मीद से परे कोर्ट ने महज 45 मिनट के अंदर पूरी स्थिति साफ कर दी। इस दौरान लोग लगातार टीवी समाचार चैनलों पर नजर बनाए रहे। यही स्थिति गली- चौराहों पर चाय की दुकानों की भी रही। लोग दुकानों पर लगे टीवी पर नजरेें टिकाए रहे। कार्यालयों में भी लोग काम की जगह फैसले के दौरान मोबाइल पर पल पल की जानकारी लेते दिखाई दिए।

देर से खुले बाजार

सुबह साढ़े दस बजे से सवा ग्‍यारह बजे तक कोर्ट का फैसला आया। इस दौरान शहर से लेकर देहात तब बाजारों में सन्‍नाटा पसरा रहा। सड़कों पर कुछेक वाहन ही दिखाई दिए। जो बाजार सुबह दस बजे तक खुल जाते थे वहां की दुकानें साढ़े ग्‍यारह बजे के बाद ही खुलीं।

 

कौमी एकता एवं सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखें- जिलाधिकारी वाराणसी

वाराणसी के जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने शनिवार को कैम्प कार्यालय सभागार में अयोध्या प्रकरण पर मा. उच्च न्यायालय के आये निर्णय के परिप्रेक्ष्य में कानून एवं शान्ति व्यवस्था और साम्प्रदायिक सौहार्द बनाये रखने हेतु मजिस्ट्रेटों की आपात बैठक की।नगर क्षेत्र को तीन जोन में बांटा गया है। जो़न प्रथम, जोन द्वितीय व जोन तृतीय। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि जोन प्रथम के जोनल मजिस्ट्रेट एडीएम वित्त एवं राजस्व तथा जोनल पुलिस अधिकारी पुलिस अधिकारी अपराध, मुख्यालय थाना आदमपुर, जोन द्वितीय के जोनल मजिस्ट्रेट एडीएम नागरिक आपूर्ति, जोनल पुलिस अधिकारी पुलिस अधीक्षक यातायात तथा मुख्यालय पुलिस चौकी बजरडीहा व जोन तृतीय के जोनल मजिस्ट्रेट मुख्य राजस्व अधिकारी तथा जोनल पुलिस अधिकारी पुलिस अधीक्षक प्रोटोकॉल व मुख्यालय पुलिस चौकी कचहरी बनाया गया है। जोन प्रथम के प्रथम सेक्टर के सेक्टर मजिस्ट्रेट नगर मजिस्ट्रेट व सेक्टर पुलिस अधिकारी सीओ कोतवाली तथा सम्मिलित थाने  कोतवाली, आदमपुर तथा रामनगर है। जोन प्रथम के द्वितीय सेक्टर के सेक्टर मजिस्ट्रेट अपर नगर मजिस्ट्रेट तृतीय व सेक्टर पुलिस अधिकारी सीओ चेतगंज तथा सम्मिलित थाने  चेतगंज, सिगरा तथा जैतपुरा। जोन द्वितीय के सेक्टर तृतीय के सेक्टर मजिस्ट्रेट अपर नगर मजिस्ट्रेट द्वितीय व सेक्टर पुलिस अधिकारी सीओ दशाश्वमेध तथा सम्मिलित थाने दशाश्वमेध, चौक व लक्सा।

जोन द्वितीय के सेक्टर चतुर्थ के सेक्टर मजिस्ट्रेट अपर नगर मजिस्ट्रेट प्रथम व सेक्टर पुलिस अधिकारी सीओ भेलूपुर तथा सम्मिलित थाने भेलूपुर, लंका व मण्डुवाडीह। जोन तृतीय के सेक्टर पंचम के सेक्टर मजिस्ट्रेट अपर नगर मजिस्ट्रेट चतुर्थ व पुलिस अधिकारी क्षेत्राधिकारी कैंट तथा सम्मिलित थाने कैण्ट, शिवपुर व सारनाथ। सभी अधिकारियों को चौकन्ना एवं सतर्क रहने के साथ ही अपने-अपने क्षेत्रों में चक्रमण करते रहने का निर्देश दिया है। किसी अप्रिय स्थिति में कड़ाई से कार्यवाही करें। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने जनपदवासियों से गंगा जमुनी तहजीब की मिसाल को कायम रखते हुए शांति, कौमी एकता एवं सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने की अपील की है।

रामजन्म भूमि मंदिर विवाद का नहीं, विश्वास व आस्था का विषय

सतुआ बाबा आश्रम के संतोष दास  ने कहा कि भारत की पहचान राम से थी, इसे उच्चतम न्यायालय ने पूरे विश्व को अपने फैसले से दिखा दिया। इसे हर धर्म के लोगों ने स्वीकार किया, करना चाहिए। उच्चतम न्यायालय ने संदेश दिया कि कोई नयी व्यवस्था, धर्म, संप्रदाय, भावना स्वीकार नहीं की जा सकती जो मूल है मूल है।

प्रदेश सरकार के मंत्री मंत्री रवीन्द्र जायसवाल ने कहा कि श्रीराम जन्मभूमि पर सर्वसम्मति से आये सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का हम सभी स्वागत करते हैं और अपील करता हूं कि हम इस निर्णय को सहजता से स्वीकारते हुए शांति और सौहार्द से परिपूर्ण च्एक भारत-श्रेष्ठ भारत के अपने संकल्प के प्रति कटिबद्ध रहें।मुझे पूर्ण विश्वास है कि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिया गया यह ऐतिहासिक निर्णय अपने आप में एक मील का पत्थर साबित होगा। यह निर्णय भारत की एकता, अखंडता और महान संस्कृति को और बल प्रदान करेगा। दशकों से चले आ रहे श्री राम जन्मभूमि के इस कानूनी विवाद को आज इस निर्णय से अंतिम रूप मिला है। मैं भारत की न्याय प्रणाली व सभी न्यायमूर्तियों का अभिनन्दन करता हूं।

जनता कोर्ट के आदेश का करे पालन, बोले शिवपाल यादव

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल यादव ने सर्किट हाउस में राम मंदिर मामले पर पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि देश की सबसे बड़ी अदालत ने अपना फैसला दिया है, सभी को उसका पालन करना चाहिए। सभी लोग सदभाव से रहें। हम लोगों ने कहा था कि बातचीत से मामला निपटा ले, तब नहीं निपटा तो अब सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है तो उसे सभी को मानना चाहिए। प्रदेश में कानून व्यवस्था ठीक नहीं है, सरकार अपने वादों में विफल है, नौकरी दे नहीं पा रही है। प्रदेश में अधिकारियों का राज है, अधिकारी किसी की सुन नहीं रहे हैं और जनता सब देख रही है। हमने सरकार के खिलाफ कई बार प्रदर्शन भी किया, अब हम २०२२ के लिए तैयारी कर रहे हैं। जब सरकार में हम मंत्री थे तो काशी से विकास की शुरुआत की थी। वरुणा का सुंदरीकरण का कार्य हमने शुरू किया। गंगा पार जितने भी पुल बने वो हमने बनवाए। हमारी अभी नई पार्टी है पूरे प्रदेश में हमने प्रदर्शन किया। सबसे ज्यादा जनता की समस्याओं को लेकर सरकार को घेरने का प्रयास किया। जनता हमारे साथ है,  दो वर्षों में जनता पूरी तरह हमारे साथ होगी। प्रदेश में हमारी पार्टी सबसे बड़ी पार्टी होगी। बात बनी तो समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ेंगे। पार्टी के पास सभी जिले में कार्यकर्ता हैं उन्हीं को प्रत्याशी बनाया जाएगा।

फैसले को लेकर बिजली का बना कंट्रोल रूम

अयोध्या फैसले को लेकर बिजली विभाग ने कंट्रोल रूम बनाया है। यह कंट्रोल रूम दो दिनों तक संचालित होगा। कंट्रोल रूम का नंबर 8081924276 है। इसमें विभाग के छह अधिकारियों व कर्मचारियों को तैनात किया गया है। कंट्रोल रूम काशी इंट्रीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर शाहिद उद्यान में बनाया गया है। इसमें सभी विभागों के कर्मचारियों को तैनात किया गया है।

 

Posted By: Saurabh Chakravarty

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप