वाराणसी, जागरण संवाददाता। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की प्रवेश परीक्षा की तिथि घोषित करने के बाद अब नेशनल टेस्टिंग एजेंसी काशी हिंदू विश्वविद्यालय की प्रवेश परीक्षा को तैयारी को लेकर जुटी है। इधर कार्यवाहक कुलपति प्रो. वी के शुक्ल ने भी स्पष्ट कर दिया है कि एनटीए कभी भी स्नातक और परास्नातक प्रवेश परीक्षा की अधिसूचना जारी कर सकता है।

बीएचयू में भी प्रवेश परीक्षा से सम्बंधित सभी दस्तावेज एनटीए को सौंप दिए गये हैं। जेएनयू की प्रवेश परीक्षा 20 से 23 सितंबर के मध्य आयोजित होगी, जिसको देखते हुए इसी के बाद बीएचयू प्रवेश परीक्षा की तिथियां भी घोषित की जायेंगी। सूत्रों के अनुसार प्रवेश परीक्षा को लेकर बीएचयू में कल देर शाम एक उच्च स्तरीय बैठक भी बुलाई गई थी, जिसके मद्देनज़र लोग कयास लगा रहे हैं कि जल्द ही अधिसूचना जारी हो सकती है। देश भर के दो सौ सेंटरों पर यह प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाएगी, वहीं इसका फ़ॉर्म एनटीए की वेबसाइट पर आनलाइन सबमिट किया जाएगा। एनटीए के द्वारा पहले स्नातक की ही प्रवेश परीक्षा होनी थी मगर बाद में परा स्नातक परीक्षाओं की भी जिम्मेदारी एनटीए को सौंप दिए जाने की सूचना आ रही है। बीएचयू प्रवेश परीक्षा सितंबर में करा ली जाएगी वहीं अक्टूबर में नया सत्र भी शुरू किया जाएगा।

बता दें कि इस सत्र से सीयूसीईटी (सेंट्रल यूनिवर्सिटी कामन एंट्रेंस टेस्ट) होनी थी मगर विलम्ब के चलते यूजीसी ने इसे अगले सत्र तक पोस्ट पोन कर दिया है। इसके तहत देश की सभी केंद्रीय विश्वविद्यालयों में एक कामन प्रवेश परीक्षा आयोजित होगी जिसमें चवाईस और मेरिट के आधार पर विश्वविद्यालयों की सीटों का आवंटन होगा।

महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ प्रशासन ने स्नातक, स्नातकोत्तर के परीक्षाओं के साथ यूजी-पीजी के विभिन्न पाठ्यक्रमों में प्रवेश परीक्षा भी कराने की तैयारी में जुटा हुआ है। विश्वविद्यालय के 59 पाठ्यक्रमों में 30 पाठ्यक्रमों मेरिट से दाखिला लेने का निर्णय लिया है। इन पाठ्यक्रम में निर्धारित सीट के सापेक्ष दोगुने से कम आवेदन आए हैं। वहीं 29 पाठ्यक्रमों में ही अब प्रवेश परीक्षा कराई जाएगी। प्रवेश परीक्षाएं तीन पालियों में प्रस्तावित है।

Edited By: Saurabh Chakravarty