गाजीपुर, जागरण संवाददाता। जीआरपी व आरपीएफ ने तस्करी कर कामाख्या एक्सप्रेस से ले जा रहे 626 कछुए को बरामद किया है। सिटी रेलवे स्टेशन पर पुलिस ने कुछआ तस्करी के आरोप में दो महिलाओं को गिरफ्तार किया है। दोनों महिलाएं सुल्तानपुर के कोतवाली देहात क्षेत्र के गांव पकड़ी की रहने वाली हैं। सभी कछुए वन विभाग को सिपुर्द कर दिए गए। बाजार में इन कछुओं की कीमत सात लाख बतायी गयी है।

शुक्रवार को गुजरात के गांधीधाम से गोवाहाटी जा रही कामाख्या एक्सप्रेस सिटी रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर पहुंची तो जीआरपी एस्कार्ट के सिपाहियों ने जनरल कोच बी-2 में चेकिंग शुरू की तो उन्हें दुर्गंध आयी। इसके बाद तलाशी ली तो कई सीटों के नीचे बोरियां रखी गई थीं। जीआरपी व आरपीएफ ने ट्रेन को रोककर सीटों के नीचे से 26 गठरियां निकालीं। कपड़ों से बंधी गठरियों को खोला गया तो उसके अंदर से बोरियां निकलीं। बोरियों को खोलने पर उसमें कछुआ रखे हुए मिले। वन विभाग के रेंजर की मौजूदगी में कछुओं की गिनती की गई।

इन गठरियों से पुलिस को 626 कछुए बरामद हुए। पुलिस ने कछुआ लेकर जा रही लच्छो पत्नी पप्पू व कंचन पत्नी विजय निवासी पकड़ी कोतवाली देहात जनपद सुल्तानपुर को गिरफ्तार किया। पुलिस की पूछताछ में दोनों ने बताया कि वह सुल्तानपुर से ट्रेन में सवार हुई थीं। कछुआ उन्होंने आसपास के जनपदों से इकट्ठा किया था। वह इसे लेकर न्यू जालपाईगुड़ी जा रही थीं। जीआरपी थानाध्यक्ष अखिलेश कुमार मिश्रा ने बताया कि बाजार में कछुओं की कीमत करीब सात लाख रुपये है। दोनों महिलाएं कछुओं को लेकर जा रही थीं। कछुओं की तस्करी में और कौन लोग थे पता लगाया जा रहा है। महिलाओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है।

Edited By: Anurag Singh