वाराणसी : मीरजापुर के बरकछा स्थित काशी ¨हदू विश्वविद्यालय के राजीव गांधी साउथ कैंपस में अब 500 बेड का नया अस्पताल बनाने की योजना बन रही है, ताकि मध्य प्रदेश व अन्य क्षेत्रों के मरीजों का वहीं उपचार हो। सर सुंदरलाल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक प्रो. वीएन मिश्र ने यह जानकारी दी। बताया कि एक सितंबर से ओपीडी शुरू की जाएगी। साथ ही अस्पताल का 15 दिन में प्रस्ताव तैयार कर स्वास्थ्य मंत्रालय के पास भेज दिया जाएगा। मंत्रालय का निर्देश मिलते ही एक सितंबर से ओपीडी शुरू कर दी जाएगी।

बरकछा में ओपीडी के लिए बीएचयू से डाक्टर जाएंगे। एमएस प्रो. मिश्र ने बताया कि ओपीडी से ही काम नहीं चलने वाला। इसलिए सरकार के सामने 500 बेड के नए अस्पताल का प्रस्ताव रखा जाएगा। इसके डॉक्टर, नर्स और सभी अन्य स्टाफ अलग होंगे। अस्पताल सीधे स्वास्थ्य मंत्रालय से संचालित होगा। इसके लिए साउथ कैंपस में जमीन देख ली गई है। प्रो. वीएन मिश्र ने बताया कि बीएचयू प्रशासन इसके लिए 100 एकड़ जमीन देने के लिए तैयार है। हालांकि, वहां पर पहले से छात्र स्वास्थ्य कल्याण केंद्र की तरह अस्पताल था, मगर वह बंदी के कगार पर है। साउथ कैंपस की इंचार्ज प्रो. एन. रमादेवी ने बताया कि केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने कुलपति को पत्र लिखकर बरकछा अस्पताल में आम लोगों का उपचार शुरू करने का अनुरोध किया था। इसे देखते हुए अस्पताल को अपग्रेड किया जाएगा। बताया कि कैंपस में निरीक्षण करने के साथ रविवार को पौधरोपण भी किया गया। अस्पताल से इस पिछडे़ इलाके के लोगों को बड़ी सहूलियत मिलेगी तथा उन्हें दूसरे जिलों में दौड़ भाग नहीं लगानी पड़ेगी।

By Jagran