वाराणसी, जेएनएन। बनारस ¨हदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) से संबंधित मेडिकल संस्थान में दाखिले के लिए इंटरव्यू पत्र समय पर जारी न करने के चलते बीएचयू के डिप्टी रजिस्ट्रार पर 50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है। एक छात्रा की याचिका पर फैसला सुनाते हुए नई दिल्ली उपभोक्ता फोरम ने दक्षिण पश्चिम मंडल के वरिष्ठ पोस्ट अधीक्षक पर भी 25 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है। फोरम ने कहा कि 30 दिन में आदेश का पालन किया जाए। इसके बाद जुर्माने की रकम नौ फीसदी ब्याज के साथ अदा करनी होगी। यह था मामला : सेक्टर-3 : आरकेपुरम नई दिल्ली निवासी नीरू ने बीएचयू के डिप्टी रजिस्ट्रार और पोस्ट ऑफिस अधीक्षक के खिलाफ उपभोक्ता फोरम में शिकायत दायर की थी। शिकायत में कहा गया था कि साल 2012-13 सत्र के लिए एमबीबीएस / बीएएमएस / बीडीएस में दाखिले के लिए आवेदन किया था और इसके लिए प्रवेश परीक्षा भी दी थी। प्रवेश परीक्षा के बाद बीएचयू से एक पत्र प्राप्त हुआ, जिसमें कहा गया कि आवेदक को प्रतीक्षा में रखा गया है। आवेदक को तीन अगस्त 2012 को दाखिला कमेटी के सामने पेश होकर इंटरव्यू देना होगा। नीरू ने अपनी याचिका में कहा कि जब उसे पत्र प्राप्त हुआ, तब तक देर हो चुकी थी। क्योंकि पत्र इंटरव्यू वाले दिन मिला और दिल्ली से बनारस जाना संभव नहीं था।

याचिका में कहा गया कि इंटरव्यू पत्र 21 जुलाई 2012 का लिखा गया था, जिसे यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने 26 जुलाई को जारी किया और पोस्ट ऑफिस ने इसे समय पर नहीं पहुंचाया। दोनों तरफ से हुई देरी के कारण वह इंटरव्यू नहीं दे सकी और उसका दाखिला लटक गया। उपभोक्ता फोरम से बीएचयू और डाक विभाग को नोटिस जारी हुआ। डाक विभाग ने कहा कि उन्हें जब पत्र मिला तो तय समय में सही पते पर पहुंचा दिया। जबकि बीएचयू की तरफ से अपना पक्ष रखने के लिए कोई पेश नहीं हुआ। फोरम ने यह कहा : फोरम ने डाक विभाग के पक्ष को नकारते हुए कहा कि 26 अगस्त को उन्हें पत्र प्राप्त हो गया था, लेकिन उसे पते पर पहुंचाने में आठ दिन लगा दिए गए। जबकि नियमों के मुताबिक पांच दिन में यह प्रक्रिया पूरी होनी थी। फोरम ने बीएचयू को एक्स पार्टी करते हुए जुर्माना लगाया और डाक विभाग को भी सेवा में कोताही बरतने का दोषी पाते हुए जुर्माना लगाया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस