मऊ, जेएनएन। बडऱांव ब्लाक के कटिहारी बुजुर्ग में प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय के बच्चों को फाइलेरिया की दवा खिलाने से दो दर्जन से अधिक बच्चों की तबीयत खराब हो गई। उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बडऱांव में भर्ती कराया गया। अन्य बच्चों की हालत में सुधार तो है परंतु चार बच्चों की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है।

बुधवार को अभियान के तहत विद्यालयों में फाइलेरिया की दवा खिलाने के क्रम में दिन में 11 बजे स्वास्थ्य विभाग की टीम ब्लाक के कटिहारी बुजुर्ग में प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय पर फाइलेरिया की दवा खिलाने पहुंची। कटिहारी बुजुर्ग में दवा खाने के बाद सोनम, खुशी, नीलाक्ष, रवि कन्नौजिया, आरएन यादव, राजकिशोर

अंशिका, सुमन, खुशी यादव, रंजना यादव, अंशु राजभर, काजल चौहान, रिजवाना बानो, लक्ष्मी चौहान, दीपक शर्मा, हेमंत मौर्या, दिलशाद अहमद, राज कन्नौजिया, खुशी, हाजरा बानो, राकेश चौहान आदि की तबियत कुछ देर बाद ही बिगडऩे लगी। दवा खा चुके कुल तीस बच्चे बीमार पड़ गए। उन सभी को आनन फानन में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बडऱांव में भर्ती कराया गया। वहां चिकित्सकों ने इलाज शुरू किया। शाम होने तक अधिकांश बच्चों की तबीयत में सुधार नजर आया। जबकि  चार बच्चे खुशी यादव, आनंद यादव, राजकिशोर, मीनाक्षी, रवि कनौजिया की हालत अभी भी गंभीर बनी हुई थी। बच्चों के बीमार होने की सूचना जैसे ही उनके अभिभावकों को हुई। परिजनों में घबराहट फैल गई। सभी जैसे-तैसे भागकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बडऱांव पहुंचे। अस्पताल के भीतर और बाहर परिजनों की भारी भीड़ लग गई। बच्चों के स्वास्थ्य में सुधार देख परिजनों ने राहत का सांस ली।

 

चार बच्चे अभी भी परेशान हैं

 बच्चों की तबीयत में पहले से काफी सुधार है, चार बच्चे अभी भी परेशान हैं, उनमें भी सुधार हो रहा है।

  -अशोक कुमार, अधीक्षक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, बडऱांव।

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस