वाराणसी : सीरगोवर्धन स्थित संत रविदास मंदिर को 30 एकड़ में विकसित करने के लिए विकास प्राधिकरण ने 193 करोड़ का डीपीआर बनाकर शासन को भेज दिया। बनारस दौरे पर आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विकास प्राधिकरण से जल्द से जल्द डीपीआर बनाकर भेजने को कहा था जिससे काशी विश्वनाथ मंदिर विशिष्ट क्षेत्र परिषद के साथ-साथ काम शुरू हो सके। मंदिर की जमीन के क्षेत्रफल में कोई बदलाव नहीं किया है, कम बजट होने के कारण निर्माण कार्य दूसरे चरण में किए जाएंगे।

मुख्यमंत्री के निर्देश पर प्रमुख सचिव सूचना, पर्यटन एवं धर्मार्थ कार्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने वीडीए को पत्र भेजकर रविदास की जन्मस्थली के पुर्नविकास एवं विस्तार का खाका तैयार करने का निर्देश दिया था। पहले 100 एकड़ में मंदिर को विकसित करना था लेकिन बजट अधिक होने के कारण शासन ने प्रस्ताव में संशोधन करने का निर्देश दिया था। मंदिर से सटे 30 एकड़ जमीन का लागत प्रमाणपत्र भी मागा था। वीडीए ने संत रविदास मंदिर के आयोजन समिति व प्रबंध समिति से संपर्क कर प्रस्ताव तैयार किया है। समिति के पास करीब आठ एकड़ जमीन है, बाकी की जमीन क्रय करनी है। मंदिर विस्तार के लिए 30 एकड़ जमीन में 41 अराजी नंबरों को चिह्नित किया गया है।

--

पहले चरण में ये होंगे निर्माण

पहले चरण में लंगर, रसोईघर, धर्मशाला, सरोवर व सत्संग हाल बनाने का निर्णय लिया है, बाकी काम दूसरे चरण में होंगे।

--

193 करोड़ का डीपीआर बनाकर शासन को भेज दिया गया है। शासन से स्वीकृति मिलने के साथ ही मंदिर को विकसित करने की तैयारी शुरू कर दी जाएगी।

-राजेश कुमार, उपाध्यक्ष वीडीए

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस