जागरण संवाददाता, वाराणसी : मसीही समुदाय के निवर्तमान धर्माचार्य डा. पैट्रिक पॉल डिसूजा (88) का लम्बी बीमारी के बाद गुरुवार की सुबह 9.45 बजे मऊ के एक अस्पताल में निधन हो गया। उनके शव को छावनी क्षेत्र स्थित बिशप हाउस लाया गया जहां अंतिम दर्शन के लिए मसीही व गैर मसीही समुदाय की भीड़ उमड़ पड़ी। दूसरी ओर फादर पीटर ने बताया कि डा. डिसूजा के निधन पर जनपद के सभी मिशनरी स्कूलों में तीन दिनों का शोक घोषित किया गया है। शोक में सभी मिशनरी स्कूल शुक्रवार व शनिवार को बंद रहेंगे।

छावनी क्षेत्र स्थित बिशप हाउस वाराणसी धर्मप्रांत के प्रशासक फादर यूजीन जोसेफ की अगुवाई में विशेष प्रार्थना की गई। शोक सभा के बाद तय किया गया कि 18 अक्टूबर को सेंट मैरिज चर्च (महागिरजा) परिसर में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। इसमें रीजनल बिशप्स कॉन्फ्रेंस ऑफ इंडिया के अध्यक्ष सहित देश व विदेश के अनेक धर्मगुरुओं के शामिल होने की सम्भावना है। गौरतलब है कि डा पैट्रिक पॉल डिसूजा वाराणसी धर्मप्रांत के प्रथम बिशप थे। वे बिशप के पद पर 37 वर्षो तक लगातार बने रहे जो रिकार्ड है।