संवाद सूत्र, गंजमुरादाबाद : एएनएम सेंटर में प्रसव बाद हालत बिगड़ने पर सीएचसी बांगरमऊ भेजी गई एक प्रसूता ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। घटना के बाद स्टाफ नर्स से लेकर चिकित्सक खुद की गर्दन बचाने में लग गए हैं। उनका कहना है कि बच्चा उल्टा होने से परिजनों को जिला अस्पताल ले जाने की सलाह दी गई थी। लेकिन, वह नहीं माने। जिस कारण प्रसव बाद ज्यादा खून बहने से प्रसूता की मौत हो गई।

चौकी क्षेत्र के ग्राम रघुरामपुर निवासी 30 वर्षीय रेनू पत्नी रामलखन को लेकर परिजन मंगलवार दोपहर प्रसव पीड़ा पर सुल्तानपुर एएनएम सेंटर लेकर पहुंचे थे। कुछ घंटे बाद उसने बेटी का जन्म दिया। जच्चा-बच्चा दोनों के स्वस्थ होने की बात कही गई। लेकिन, थोड़ी ही देर में जच्चा (प्रसूता) की हालत बिगड़ गई। जिस पर सेंटर पर तैनात नर्स ने उसे सीएचसी बांगरमऊ के लिए रेफर कर दिया। निजी वाहन से वह उसे स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचे। जहां पर उपचार से पूर्व चिकित्सक द्वारा मृत घोषित कर दिया गया। सेंटर पर तैनात नर्स के अनुसार बच्चा उल्टा होने की बात बताकर परिजनों को संसाधन का अभाव बता पहले ही जिला अस्पताल ले जाने की सलाह दी गयी थी। लेकिन, उन्होंने इंकार कर दिया। जिससे वजह से घटना हुई। सीएचसी डा. संत कुमार ने बताया कि प्रसूता की मौत रास्ते में ही हो गई थी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस