जागरण संवाददाता, उन्नाव : राशन के अन्न की कालाबाजारी को रोकने के लिए जीपीएस ट्रैकिग सिस्टम ट्रकों में लगाया जाएगा। जिससे एफसीआइ के गोदाम से चले ट्रक की मानीटिरिग हो सकेगी। ट्रक कहां पर रुका और क्यों रुका इसकी पूरी जानकारी अधिकारियों को गोडाउन डिस्पैच एप से मिल सकेगी। इस व्यवस्था को लागू करने की मंशा राशन की कालाबाजारी पर नकेल कसने की है। इसके लिए खाद्य एवं विपणन अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं।

राशन की कालाबाजारी होने से गरीबों तक राशन नहीं पहुंच पा रहा है। खेल गोदाम से हो रहा है, जो ट्रक एफसीआइ से लोडकर चलते हैं, उन्हें गोदाम से पहले ही रोककर खाद्यान्न माफिया उनसे अपने हिस्से का राशन उठा लेते हैं। यह सारा खेल विभागीय साठगांठ से हो रहा है। ऐसे में अब ट्रकों पर निगाह रखने के लिए उनमें जीपीएस सिस्टम लगाया जाएगा। गोडाउन एप से इसकी मानीटरिग होगी। इसके जरिए पता लग सकेगा कि ट्रक की लोकेशन क्या है। यदि कहीं भी ट्रक रोका जाता है, या गोदाम के 100 मीटर के दायरे के बाहर उससे अनाज उतारा जाता है तो इसकी खबर अधिकारियों को हो जाएगी। इस तरह राशन की कालाबाजारी पर नकेल सकी जा सकेगी।

--------------

गोदामों की होगी जियो टैंगिग

इस नई व्यवस्था के चलते जिले के राशन के सभी 16 गोदामों की जियो टैगिग होगी। इसके जरिए 100 मीटर पर ही राशन की उठान और राशन को ट्रक से उतारा जाएगा। इसके पार राशन का ट्रक नहीं जाएगा। वहीं कोटेदार भी 100 मीटर की परिधि में ही राशन को ले जा सकेंगे। वहीं ट्रकों में जीपीएस सिस्टम लगते ही जियो टैगिग व्यवस्था को भी पूरा कर लिया जाएगा। इस तरह राशन उठाने वाले ट्रकों पर खास निगाह रखी जाएगी। चालक अब अपनी मर्जी या सेटिग के चलते ट्रक को कहीं दूसरी जगह नहीं ले जा सकेंगे।

--------------

इस तरह काम करेगा गोडाउन एप

एप में ट्रकों की संख्या लोड होगी, इससे पता चलेगा कि किस ट्रक से खाद्यान्न एफसीआइ से आ रहा है। गूगल मैपिग से ट्रक की पूरी लोकेशन मिल सकेगी। कितना अनाज उतारा गया तथा कितना लोड होकर आया था, इसका पूरा डाटा होगा। किस गोदाम में कब किस तारीख तथा समय पर राशन उतरेगा इसकी भी होगी जानकारी। लोकेशन गलत मिलने पर एप का सिग्नल बताएगा कि ट्रक कहां जा रहा है। ----------------

गोदामों में जो ट्रक राशन लेकर आते हैं इनमें जीपीएस सिस्टम लगाया जाएगा। इसके जरिए ट्रक की पूरी लोकेशन की जानकारी मिल सकेगी। इससे ट्रक से खाद्यान्न कहीं अन्य जगह नहीं उतारा जा सकेगा। साथ ही गोडाउन एप से इसकी पूरी मानीटिरिग की जाएगी।-रामेश्वर प्रसाद, जिला पूर्ति अधिकारी।

Posted By: Jagran