संवाद सहयोगी, बांगरमऊ : बिजली विभाग की लापरवाही से एक युवक की जान चली गई। शुक्रवार को नित्यक्रिया के लिए खेत जा रहे युवक के गले में एचटी लाइन का लटक रहा तार फंस गया। अचानक हुए हादसे में 11 हजार लाइन के करंट की चपेट में आने से युवक की आधी गर्दन कट गई और उसकी घटनास्थल पर मौत हो गई। ग्रामीणों और परिजनों ने शव सड़क पर शव रखकर विद्युत विभाग के खिलाफ नारेबाजी कर हंगामा शुरू कर दिया। एसडीएम ने 9 लाख की आर्थिक सहायता दिलाने के साथ जर्जर तारों को बदले जाने का आश्वासन देकर सभी को शांत कराया।

कोतवाली क्षेत्र के सहबाजपुर गांव का 40 वर्षीय छत्रपाल उर्फ चौकीदार पुत्र बनवारी शुक्रवार सुबह करीब साढ़े आठ बजे नित्यक्रिया के लिए गांव से बाहर खेत की तरफ जा रहा था। इसी दौरान जमीन की ओर लटक रहे हाईटेंशन विद्युत लाइन का तार उसकी गर्दन में फंस गया और जिससे युवक की आधी गर्दन कट गई और उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। रास्ते से अन्य ग्रामीण गुजरे तो छत्रपाल का शव तार पर लटका देख उनके होश उड़ गए। मामले की जानकारी परिजनों को सूचना दी गई तो घर में चीख पुकार मच गई। घटनास्थल पर बड़ी तादाद में इकट्ठा हुए ग्रामीण विद्युत विभाग की लापरवाही का विरोध करते हुए हंगामा करने लगे। मामले की जानकारी मिलने पर एसडीएम अनिल कुमार सिंह कोतवाली पुलिस को लेकर मौके पर पहुंचे। गुस्साए परिजन और गांव वाले एसडीएम से बिजली विभाग के अधिकारियों को मौके पर बुलाने की मांग करने लगे। काफी देर तक एसडीएम ने उनको समझाया तथा कि मृतक के परिजनों को चार लाख की शासकीय सहायता और पांच लाख रुपये की विद्युत विभाग से सहायता राशि दिलाने का आश्वासन दिया। साथ ही जर्जर तारों को बदले जाने के लिए विद्युत विभाग को पत्र लिखने की बात की। एसडीएम के आश्वासन पर परिजनों का गुस्सा शांत हुआ और पोस्टमार्टम के लिए शव पुलिस को देने को राजी हुए। बताते हैं कि मृतक छत्रपाल चार भाइयों में तीसरे नंबर का था। बेटे की मौत से मां पार्वती का रो-रोकर कर बुरा हाल है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप