जागरण संवाददाता, उन्नाव : एंबुलेंस कर्मियों की हड़ताल शनिवार को भी जारी रही। शासन की चेतावनी के बाद हड़ताली एंबुलेंस कर्मचारियों में तमाम काम पर वापस लौटने के लिए अफसरों से संपर्क साधते रहे, लेकिन एसोसिएशन नेता उन्हें अलग-अलग जानकारी देकर भ्रमित किए रहे। इससे चाहकर भी वह काम पर नहीं लौट पाए। उधर सेवा प्रदाता कंपनी ने साफ चेतावनी दी है कि 24 घंटे में काम पर न लौटने वाले कर्मचारी वापस नहीं लिए जाएंगे। जो वापस आएंगे उन्हें शपथ पत्र देना होगा। मरीजों को आज भी परेशानी तो हुई लेकिन अन्य दिनों की अपेक्षा बहुत कम परेशानी का समाना करना पड़ा।

शनिवार को हड़ताल पर बैठे कई कर्मियों ने वापस काम पर लौटने के लिए सेवा प्रदाता कंपनी के अधिकारियों संपर्क भी किया। लेकिन एसोसिएशन नेता उन्हें संघ से सार्थक वार्ता हो जाने का भरोसा दिलाते रहे इससे वह ऊहापोह में रहे। बताते चलें विभिन्न मांगों को लेकर 108 व 102 एंबुलेंस कर्मी रविवार रात से हड़ताल पर हैं। जिला प्रशासन ने चालकों की वैकल्पिक व्यवस्था कर 70 एंबुलेंस का संचालन शुरू करा दिया है।

.........

निजी वाहनों से अस्पताल पहुंचे मरीज, जननी ड्राप बैक सेवा ठप

- शनिवार को भी जननी सुरक्षा योजना के तहत संचालित ड्राप बैक सुविधा चालू नहीं हो सकी। अस्पताल से डिस्चाज प्रसूता निजी वाहनों से घर गई। वहीं मरीज भी ई-रिक्शा, टेंपो व आटो से अस्पताल आए।

---------------

रास्ते में एंबुलेंस चालक जूझे

- नये चालकों को काल अटेंड करने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। शनिवार को बड़ा चौराहा पर और शुक्रवार देर रात जिला अस्पताल के निकट मरीज लेकर आ रही एंबुलेंस खराब हो गई। नये चालक उन्हें ठीक करने में जूझते रहे। उन्हें सहायता के लिए वार्ड ब्वाय नहीं मिले।

Edited By: Jagran