सुलतानपुर: माडल सिटी की तर्ज पर नगर में सड़क किनारे एलईडी लाइट लगाने का काम शुरू कर दिया गया है। नगर पालिका द्वारा तकरीबन साढ़े चार करोड़ रुपये के बजट से कराए जा रहे इस कार्य को जल्द पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है।

हालांकि एलईडी लाइट लगाने के लिए सड़क किनारे लगाए गए पोल को लेकर पीडब्ल्यूडी व नगर पालिका में टकराव पैदा हो गया है। पीडब्ल्यूडी का आरोप है कि प्रशासन की तरफ से मनाही के बाद भी नाली बनाई जाने वाली जगह पर खंभे खड़े कर दिए गए, जिससे सड़क चौड़ीकरण के कार्य में बाधा पैदा हो रही है।

अमहट से गोलाघाट तक कुल साढ़े चार सौ एलईडी लाइट को लगाया जाना है। इसके साथ ही सात चौराहों पर 16 मीटर की ऊंचाई पर मल्टी लाइट युक्त हाईमास्ट भी लगाया जाना है। एलईडी के नीचे ही खंभे पर महानगरों की तर्ज पर भगवा कलर की स्ट्रिप लाइट भी लगाई जानी है। जेम पोर्टल से बाकायदा इसका टेंडर भी जारी किया गया है। दो सौ से अधिक पोल में एलईडी का कनेक्शन भी कर दिया गया है।

-----

नगर पालिका के कार्य पर पीडब्ल्यूडी को एतराज

नगर पालिका के द्वारा कार्य को बेतरतीब तरह से कराए जाने का आरोप लगाया गया है। जूनियर इंजीनियर चक्रधर मिश्र का कहना है कि सड़क किनारे लगे बिजली के पोल के समानांतर एलईडी लाइट के लिए खंभों को लगाया जाना था। बावजूद इसके नगर पालिका द्वारा ऐसा नहीं किया जा रहा है। पोल को सड़क की तरफ ही काफी अंदर खड़ा कर दिया गया है, इसके नाली का निर्माण कार्य बाधित होगा। जेई का कहना है जिला प्रशासन की तरफ से भी खंभों को सड़क किनारे न लगाने के आदेश दिए गए हैं, लेकिन नगर पालिका मानने को तैयार नहीं है। पालिका चेयरमैन बबिता जायसवाल का कहना है कि शासन द्वारा स्वीकृत डीपीआर के मुताबिक ही खंभे लगाए गए हैं। सड़क चौड़ीकरण में पालिका द्वारा नहीं बल्कि पीडब्ल्यूडी द्वारा खुद ही लेटलतीफी की जा रही है।

Edited By: Jagran