जागरण संवाददाता, सोनभद्र : वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में जीएसटी परिषद के एक हजार रुपये से कम के होटल कमरों पर जीएसटी समाप्त किए जाने के फैसले का जनपद के होटल संचालकों ने स्वागत किया है। सभी का कहना है कि जिस उद्देश्य से यह कदम बढ़ाया गया है उसे पाने में आसानी होगी। यानी इससे पर्यटकों का खर्च कम होगा और जनपद के विभिन्न जगहों पर घूमने आने वाले पर्यटकों की संख्या बढ़ेगी।

राब‌र्ट्सगंज नगर के होटल संचालक आकाश जायसवाल ने कहा कि एक हजार तक के किराये वाले कमरों को जीएसटी मुक्त करने से उपभोक्ताओं को लाभ मिलेगा। होटल संचालक इसके पहले एक हजार तक के कमरे पर उपभोक्ताओं से जीएसटी भी वसूल करते थे। इसके खत्म होने से कमरों का किराया कम होगा। इससे लोग होटलों की तरफ आकर्षित होंगे। होटल संचालक राजू जायसवाल का कहना है कि एक हजार तक के होटल के कमरों के किराये पर पहले से ही जीएसटी लागू नहीं थी। नया यह है कि साढ़े सात हजार तक के किराये वाले कमरों पर पहले 18 प्रतिशत जीएसटी लिया जाता था लेकिन, अब 12 फीसद लिया जाएगा। इसका फायदा होटल संचालक नहीं बल्कि उपभोक्ताओं को होगा। क्योंकि किराए पर कमरा लेने वाले से ही जीएसटी वसूल की जाती थी।

होटल संचालन विजय जैन ने वित्तमंत्री और जीएसटी परिषद के इस निर्णय का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि जीएसटी में छूट से होटल व्यवसाय में निखार आएगा। बड़े शहरों में पर्यटकों को कुछ हद तक राहत मिलेगी। होटल संचालक अवधेश पटेल ने भी केंद्र सरकार द्वारा आर्थिक मोर्चों पर किये जा रहे लगातार फैसले का स्वागत किया है। उनका कहना है कि जीएसटी के भार से लोग परेशान थे। केंद्र सरकार द्वारा संशोधित जीएसटी से उपभोक्ताओं को फायदा मिलेगा ही, होटल व्यवसाय भी चमकेगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप