जागरण संवाददाता, डाला (सोनभद्र): पं. दीनदयाल उपाध्याय राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय गुरमुरा के प्रधानाचार्य द्वारा बच्चों को अपशब्द बोलने व मीनू के मुताबिक खाना न मिलने से आक्रोशित सभी बच्चों ने बुधवार की अलसुबह वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग पर जाम लगा दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने छात्रों को हटाने के लिए बल प्रयोग कर दिया। इससे गुस्साए छात्रों ने कैम्पस के अंदर से ही पथराव शुरू कर दिया। वहीं पुलिस के बल प्रयोग में छह से अधिक  छात्र घायल हो गये। घटना के बाद मौके पर पहुंचे एडीएम के आश्वासन पर भूख हड़ताल समाप्त किया। 

चोपन थाना क्षेत्र के जवारीडांड़ पं. दीनदयाल उपाध्याय राजकीय आश्रम पद्धति विद्यालय गुरमुरा के बच्चे कालेज के प्रधानाचार्य द्वारा छात्रों को अपशब्द बोलने, मीनू के हिसाब से नास्ता व भोजन न मिलने  और कालेज में व्याप्त समस्याओं का समाधान न करने से आक्रोशित छात्र अलसुबह ही वाराणसी-शक्तिनगर मार्ग पर पहुंचकर मार्ग को जाम लगा दिया। मौके पर पहुंची पुलिस व समाज कल्याण अधिकारी केएन तिवारी ने छात्रों को काफी समझाने का प्रयास किया लेकिन, छात्र डीएम को मौके पर बुलाने की मांग पर अड़े रहे। लगभग ढाई घंटों से लगे जाम के कारण मार्ग के दोनों तरफ वाहनों कि लंबी कतार लग गई। मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में ड्यूटी पर जाने वाले सभी पुलिस प्रशासन व अन्य अधिकारी जाम में ही फंसे रहे। बच्चों के मार्ग से न हटने पर पुलिस ने बल प्रयोग कर बच्चों को स्कूल की तरफ खदेड़ने लगे। इसी दौरान कुछ बच्चों को चोटें भी आईं। पुलिस के बल प्रयोग करने से आक्रोशित बच्चों ने स्कूल कैम्पस पहुंचकर पथराव करना शुरू कर दिया। इसी दौरान स्कूल के पास ही रहने वाली महिला कल्वा देवी (55) पत्नी धीरशाह को चोट लगी, जिससे वह लहूलुहान हो गई। घायल महिला को तत्काल टेम्पो द्वारा चोपन सीएचसी ले जाया गया। मौके पर पहुंचे एसडीएम शादाब असलम ने बच्चों को काफी समझाने का प्रयास किया लेकिन, वे नहीं मानें। फिर एडीएम उमाकांत तिवारी ने कालेज पहुंचकर छात्रों समस्याओं को दूर करने का आश्वासन दिया। उसके बाद छात्र अपने हड़ताल को समाप्त कर दिया। बल प्रयोग में घायल छात्र शक्तिमान, रामचंद्र, विजय, विवेकानन्द, बाबूलाल, चन्द्र प्रकाश, सुरेन्द्र, चन्दन, अभिनव, सुनील शामिल रहे।

Posted By: Jagran