जागरण संवाददाता, दुद्धी(सोनभद्र): नये जिले की मांग को लेकर बीते तीस घंटे से भूख हड़ताल पर बैठे आंदोलनकारियों के बीच शनिवार की शाम पहुंचे क्षेत्रीय विधायक हरिराम चेरो ने दुद्धी को जिला बनवाने का आश्वासन देते हुए सभी को जूस पिलाकर उनकी भूख हड़ताल समाप्त करायी। इसके पश्चात आंदोलनकारियों ने उन्हें मुख्यमंत्री के नाम एवं अपर जिलाधिकारी राकेश सिंह को महामहिम राज्यपाल के नाम प्रेषित ज्ञापन सौंप अपनी मांगो को रखा। इस दौरान समर्थन में दुद्धी बाजार बंद रहा। विधायक ने मंच के माध्यम से अब तक जिला बनाने के मुद्दे पर किए गए सभी प्रयासों का ब्योरा प्रस्तुत करते हुए बताया कि मुख्यमंत्री ने उन्हें आश्वस्त किया है कि आदिवासी-वनवासी हित को देखते हुए दुद्धी जिला की मांग जायज है, उसे शीघ्र पूरा किया जाएगा।

वही संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष एवं नगर पंचायत चेयरमैन राजकुमार अग्रहरि ने मुद्दे को पुरजोर ढंग से रखते हुए कहा कि तीन दशक से सभी सरकारों द्वारा सिर्फ आश्वासन की घुंटी पिलाई जा रही है। सचिव प्रभु सिंह कुशवाहा ने आंदोलन को विफल करने की प्रशासनिक कोशिश का उल्लेख करते हुए एसडीएम को हटाने की मांग रखी। इसी तरह कई अन्य वक्ताओं ने भी दुद्धी जिला की उपयोगिता की बात रखते हुए सरकार से शीघ्रता पूर्वक इसकी घोषणा करने की मांग की। वक्ताओं में प्रमुख रूप से दुद्धी बार के अध्यक्ष कैलाश अग्रहरि,सिविल बार के पूर्व अध्यक्ष रामलोचन तिवारी,कुलभूषण पाण्डेय,जितेंद्र श्रीवास्तव, व्यापार मंडल के अध्यक्ष अछैयवर नाथ गुप्ता,पूर्व राज्यमंत्री विजय सिंह गोंड़,जिला पंचायत सदस्य जुबेर आलम, प्रधान संघ के अध्यक्ष दिनेश यादव,जय बजरंग अखाड़ा समिति के अध्यक्ष कन्हैया लाल अग्रहरि आदि थे।

दिनभर बाइक से चक्रमण करते रहे व्यापारी

आंदोलन के दूसरे दिन दुद्धी जिला बनाओ संघर्ष मोर्चा को सबसे बड़ा आक्सीजन व्यापार मंडल ने दिया। इसके समर्थन में शनिवार को दुद्धी बंद का एलान करते हुए व्यापार मंडल के पदाधिकारी गण बाइक से समूचे नगर में दिनभर चक्रमण करते हुए लोगों से सिर्फ प्रतिष्ठानों को बंद कर शांतिपूर्वक जहां है,वहीं से आंदोलन को समर्थन करते रहने की अपील का असर व्यापक रूप से देखने को मिला।

यह बैठे थे भूख हड़ताल पर

भूख हड़ताल पर बैठे राजकुमार अग्रहरि, प्रभु सिंह, अवध नारायण यादव,विष्णुकांत तिवारी, उदय लाल मौर्या, शिव शंकर कुशवाहा, अनिल कुशवाहा,राजेंद्र चंद्रवंशी, रामसागर, देवकुमार विश्वकर्मा को जूस पिलाकर विधायक ने तीस घंटे की भूख हडताल को समाप्त कराया।

Edited By: Jagran